Bhashan Hindi Post Nibandh Nibandh Aur Bhashan

नागरिकों के अधिकारों और कर्तव्यों पर निबंध – Essay on rights and responsibilities of citizens in Hindi

नागरिकों के अधिकारों और कर्तव्यों पर निबंध – Rights And Duties of Indian citizens in Hindi भारत के नागरिकों के अधिकार, जिम्मेदारी एवं कर्तव्य पर निबंध – Essay on Rights, Responsibilities & Duties of Citizens in Hindi Essay on rights and responsibilities in Hindi  : अधिकार और कर्तव्य एक ही सिक्के के दो पहलू है […]

Bhashan Nibandh Nibandh Aur Bhashan

मौलिक अधिकारों पर निबन्ध : भारतीय नागरिक के मूल अधिकार { Fundamental Rights in Hindi}

Fundamental Rights Essay in Hindi : मौलिक अधिकार (मूल अधिकार) पर निबन्ध Fundamental Rights in Hindi : हर देश के नागरिक के कुछ अधिकार होते है जिनकी मदद से वह अपनी इच्छानुसार जीता है | भारत के संविधान में भी कुछ मूल्यवान मौलिक अधिकार निर्धारित है | मौलिक अधिकार किसे कहते हैं, मौलिक अधिकार का […]

Bhashan Hindi Post Nibandh Nibandh Aur Bhashan

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi महान वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम की प्रेरणादायक जीवनी

महान वैज्ञानिक ए पी जे अब्दुल कलाम की उपलब्धियाँ व जीवन परिचय ( A P J Abdul Kalam Autobiography in Hindi) एपीजे अब्दुल कलाम की जीवनी – APJ Abdul Kalam Biography in Hindi  कलाम साहब की जन्मतिथि (जन्म) – 15 अक्टूबर 1931, रामेश्वरम, तमिलनाडु कलाम साहब की पूण्यतिथि (मृत्यु) – 27 जुलाई, 2015, शिलोंग, मेघालय पद […]

Bhashan Nibandh Nibandh Aur Bhashan

15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) पर जोशीला भाषण – Best Independence Day Speech in Hindi

स्कूल छात्रों के लिए 15 अगस्त (भारत स्वतंत्रता दिवस) पर लघु निबंध, भाषण और कविता स्वतंत्रता दिवस पर भाषण (देशभक्ति) – Best Inspirational Independence Day Speech that you can speak in your school and college स्वतंत्रता दिवस पर जोरदार भाषण – Independence Day (15 August) Speech in Hindi Independence Day Speech in Hindi – स्वतंत्रता दिवस भारत के लिए वह […]

Bhashan Hindi Post Nibandh Nibandh Aur Bhashan

समय प्रबंधन का महत्व एवं समय का सदुपयोग पर निबंध – Importance of Time Management in hindi Language

Time Management in Hindi : नष्ट हुई सम्पत्ति और खोए हुए वैभव को पुनः प्राप्त करने के लिये मनुष्य अनवरत श्रम करता है। एक दिन वह आता है, जबकि वह उसे फिर से प्राप्त करके फूला नहीं समाता। मानव खोए हुए स्वास्थ्य को भी बुद्धिमान डॉक्टरों की सम्मति पर चलकर, पुष्टिकारक दवाइयों का सेवन करके […]