About Me

Hello everyone! Welcome to my blog Khayalrakhe.com : मेरा नाम Babita Singh है और मैं एक अध्यापिका हूँ और साथ ही एक NGO से जुड़कर महिला सशक्तिकरण के लिए काम कर रही हूँ।  

जीवन के अनुभव 

किताबे पढने का शौक मुझे बचपन से रहा है और इस कारण मैंने काफी साहित्य पढा है। साथ ही बचपन से मुझे अपने मस्तिष्क में आने वाले विचारों को स्याही के माध्यम से कागज़ पर उतरना बेहद पसंद था । और अब वह माध्यम khayalrakhe.com बन गया है । किताबों और जीवन से मैंने बहुत कुछ सिखा है। जीवन में परेशानी और दिक्कतें तो आते ही है। न आए तो जीवन कैसा ?

इसलिए सुख हो या दुःख सबसे बांटती हूँ क्योंकि आप अकेले बोल तो सकते है, परन्तु बातचीत नहीं कर सकते है। आप अकेले आनन्दित हो सकते है परन्तु उत्सव नहीं मना सकते। अकेले आप मुस्करा तो सकते है परन्तु हर्षोल्लास नहीं मना सकते। हम सब एक – दूसरे के बिना कुछ नहीं है और यही हमारे रिश्तों की खूबसूरती है।

रिश्तों की जिंदगी में क्या अहमियत होती है इसका अनुभव मुझे है क्योंकि मैंने रिश्तों को खोया है और मैं नहीं चाहती कोई और भी रिश्तों को खोए। मैं अत्यंत उत्सुक हूँ कि khayalrakhe.com के माध्यम से आप के काम आ सकूं ।

मेरी कोशिश रहेगी कि हमेशा आप की मदद कर सकूं चाहे वह रिश्तों में दरारे भरना हो या emotional हो या फिर financial इससे मुझे खुशी होगी।

बबिता सिंह - About Babita Singh

मैंने ख्याल रखे” Blog क्यों बनाया 

आजकल के इस भाग – दौड़ की जिंदगी में इंसानों के बीच एक सूक्ष्म प्रतियोगिता चल रही है। इस प्रतियोगिता में सबसे आगे निकलने के चक्कर में हम अपना तथा अपनों का ध्यान नहीं रख पाते हैं। मेरी कोशिश है कि नए युग की सन्देशवाहिका के रूप में मै अपने इस ब्लॉग के माध्यम से आपको अपना और अपनों का खास ख्याल रखने में मदद करूँ।

 Get FREE e – book “ पैसे का पेड़ कैसे लगाए ” [Click Here]

मेरा उद्देश्य 

अपने ब्लॉग “khayalrakhe.com” के माध्यम से अपने readers को life से जुड़ी समस्याओं  जैसे सेहत, self improvement , motivate करने, रिश्तों की उलझनों आदि को सुलझाने और उनके बारे में aware करने की एक छोटी सी कोशिश है। मेरा मानना है कि अगर समस्या है तो उसका समाधान भी है। जरुरत है तो बस उसे पहचानने की।

khayalrakhe.com के माध्यम से मेरी हमेशा यह कोशिश रहेगी कि समस्या को पहचान कर उसे दूर करने में आपकी मदद कर सकूं। और उसे पढने के बाद उन्हें अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव महसूस हो ।

मेरी कई रचनाएँ समय-समय पर कई प्रकाशनों और ब्लॉगों में प्रकाशित होती रही है। पर मुझे सबसे महत्वपूर्ण सफलता तब मिली जब मेरे एक लेख को अतिथि पोस्ट के रूप में Achhikhabar पर प्रकाशित किया गया

उस लेख को Achhikhabar.com के दर्शकों से शानदार प्रतिक्रिया मिली। पाठकों ने मेरे पास mail किया कि उन्हें मेरा लेख बेहद पसंद आया। मैं हैरान और रोमांचित थी । मुझे एहसास हुआ कि पाठक मेरे लेख को पसंद कर रहे थे।

फिर लिखने का उत्साह दिनोंदिन बढ़ता गया और मेरे लेख और कई अन्य बड़े ब्लॉग पर प्रकाशित हुए हैं। जिनमें से कुछ प्रमुख निम्नलिखित है :

क्या आप में है सपने देखने का साहस : Achhikhabar.com (Click Here)

क्या अमीर होना ही सफलता है : Hindisoch.com (Click Here)

क्रोध पर काबू कैसे पायें : Gyanipandit.com (Click Here)

आप ख्याल रखे” Blog क्यों पढ़े ?

यहाँ पर प्रकाशित लेख पठन, चिंतन व मनन के पश्चात जीवन के स्वर्णिम अभिलेख बन जाते हैं। इसके विभिन्न लेखों की पंक्तियाँ अलग-अलग स्थानों पर अपने भिन्न-भिन्न अर्थ प्रकट करती हैं। जब इन्हें निजी तौर पर पढ़ा जाता है, तो अनायास ही मन के प्रश्नकंटकों की चुभन दूर होती है। अनेकों जटिल समस्याओं के समाधान मिलते हैं। उलझनें सुलझती हैं, भूलों और भ्रमों के भटकावों के बीच जीवन लक्ष्य के लिए राहें मिलती हैं।

परिवार के बीच इनकी चर्चा होने पर प्यार, परिष्कार व संस्कार का वातावरण विनिर्मित होता है। बच्चों व किशोरों को शुभ भाव व सकारात्मक विचारों का परिवेश मिलता है; इतना सब एक साथ करके ख्याल रखें अन्तर्भावों में देवत्व और बाहरी वातावरण में स्वर्ग की सृष्टि करती है। इसकी इसी दैवी व दिव्य क्षमता के कारण ही इसका नाम “ख्याल रखें” रखा हैं।

एक motivational ब्लॉग होने के कारण मेरा पूर्ण प्रयास रहता है कि जिन भी विषयों पर लेख  यहाँ पर लिखा जाये वो आप के लिए ज्ञान और शिक्षा का अच्छा स्रोत हो । आशा करती हूँ ये वेबसाइट आपके द्वारा सराही जाएगी। अगर आपको हमारा यह website पसंद आया है तो हमारे इस website को लाईक और सब्सक्राइब जरूर करें। धन्यवाद !

3 thoughts on “About Me

Comments are closed.