Hindi Post Kavita

शिक्षक दिवस पर कविता – Poems on Teachers Day in Hindi

Teachers Day Poem in Hindi (शिक्षक दिवस पर कविता)

Poems on Teachers Day in Hindi - Kavita
Poems on Teachers Day in Hindi – Kavita

शीर्षक- शिक्षक की महिमा  

आज सुधा की पावन घड़ी का

मान बढ़ाते शिक्षक हैं

वैदिक काल से चली ज्ञान का भान कराते शिक्षक हैं।

क, ख, ग से A to Z का ज्ञान कराते शिक्षक हैं,

अपनी शिक्षा के द्वारा एक अच्छा इन्सान बनाते शिक्षक हैं,

बाल्यकाल से जीवन पर्यन्त तक,

साथ निभाते शिक्षक हैं,

जीवन पथ पर सही गलत का राह दिखाते शिक्षक हैं।

हर कठिनाई में राह दिये, हर मुश्किल में खड़े शिक्षक हैं।

शिक्षक की महिमा हैं अनन्त,

ईश्वर से भी बड़े ये शिक्षक हैं,

शिक्षक के शिक्षण के द्वारा,

खिला हुआ है ये चमन,

ऐसे शिक्षक को मेरा शत – शत नमन,

शत शत नमन !

 

शीर्षक- शिक्षक का सम्मान करें

माताएँ देती हमें नव जीवन और पिता हमारी रक्षा करते हैं।

लेकिन सच्ची मानवता की भावना जीवन में शिक्षक ही भरते हैं।

Loading...

हर परिस्थिति में खुश रहना शिक्षक हमें सिखाते हैं।

हर चुनौती को स्वीकारना शिक्षक हमें बताते हैं।

विद्द्या का धन देकर शिक्षक जीवन सार्थक करते हैं,

शिक्षक ईश्वर से बढ़कर हैं ये कबीर बतलाते हैं।

जीवन में कुछ करना है तो शिक्षक का सम्मान करें  

श्रद्धापूर्वक शीश झुकाकर प्रतिदिन उन्हें प्रणाम करें।

 

शीर्षक- शिक्षक महान

शिक्षक महान हैं, हमें देते जो ज्ञान हैं।

शिक्षक की इज्जत करना, अपनी ही शान है।

हम फूल है चमन के, शिक्षक बागवान हैं।

शिक्षक से ही महकता, सारा जहाँन है।

शिक्षक की इज्जत करना, अपनी ही शान है।

शिक्षक की आज्ञा मानना हम सब का धर्म है।

शिक्षक को मान देना यही छात्र कर्म है।

शिक्षक का ही दिया हुआ जीवन का दान है।

जो खत्म ही न होता वह देता ज्ञान है।

शिक्षक की इज्जत करना अपनी ही शान है।

शिक्षक ही तो दुनिया को सन्मार्ग दिखाता है।

प्रभु ने भी किया सदा उसको प्रणाम है।

शिक्षक की इज्जत करना अपनी ही शान है।

 

शीर्षक- गिरते है हम तो उठाते है शिक्षक

गिरते है हम तो उठाते है शिक्षक,

जीवन की राह दिखाते है शिक्षक।

अंधेरे ग्रहों पर बनकर ‘दिया’

जीवन को ‘जगमग’ बनाते है शिक्षक।

कभी नन्हीं आँखों नमी जो होती,

तो बनकर दोस्त हँसाते हैं शिक्षक।

झटकती हैं दुनिया हाथ कभी जब,

तो झटपट हाथ बढ़ाते हैं शिक्षक।

जीवन डगर है जीवन समर है,

जीवन संघर्ष सिखाते हैं शिक्षक।

देकर अपने ज्ञान की पूँजी,

हमें योग्य मानव बनाते है शिक्षक।

इस देश और दुनिया के लिये,

एक मुकम्मल समाज बनाते है शिक्षक।

नहीं हो कहीं अशान्ति, अशान्ति,

बस यही एक पैगाम फैलाते हैं शिक्षक।

 

शीर्षक- क्या होता है गुरु

कुछ चार बरस का ही था मैं

जब पहली बार स्कूल गया

किसी ने मेरा हाथ थामा

लगा की जैसे माँ आ गई

क्या होता है गुरु ?

उस दिन ही मैंने जाना था,

पूरे मन, वचन, कर्म से उनको

अपना भगवान माना था।

गुरु ही तो वह बाती है

खुद जलकर प्रकाश फैलता है

अपनी मेधा के बल पर

छात्रों का भविष्य बनाता है।

क्या है हमारी गलती, उनसे

हमें अवगत कराता है।

Loading...

सुधार करने का एक मौका देता

फिर स्वयं भी उसे बताता है।

आत्मविश्वास का एक दीप जलाता

मुश्किलों में साथ निभाता है

तुम सबकुछ कर सकते हो हर बार यही बतलाता हैं।

नमन करता हूँ मैं उन सबको

कुछ लायक मुझे बनाया है

मैं कौन हूँ और क्या हूँ

मेरा मुझसे परिचय कराया है।

 

शीर्षक- आदर्शो की मिसाल

आदर्शों की मिसाल बनाकर

बाल जीवन संवारता शिक्षक

सदाबहार फूल सा खिलकर

महकता और महकाता शिक्षक

नित नए प्रत्येक आयाम लेकर

हर पल भविष्य बनाता शिक्षक 

संचित ज्ञान का धन हमें देकर

खुशियाँ खूब मनाता शिक्षक

पाप व लालच से डरने की

धार्मिक सीख सिखाता शिक्षक

देश के लिए मर – मिटने की

बलिदानी राह दिखाता शिक्षक

प्रकाशपुंज का आधार बनकर

कर्तव्य अपना निभाता शिक्षक

प्रेम सरिता की बनकर धारा

नैय्या पार लगाता शिक्षक

 

शीर्षक- पूज्यनीय शिक्षक

कभी डांट – डपट कर प्यार जताया,

कभी रोक – टोक कर चलना सिखाया,

कभी काली स्लेट पर चाक से,

उज्ज्वल भविष्य का सूरज उगाया।

कभी ढाल बनकर हर मुश्किल से बचाया।

कभी हक़ के लिये लड़ना सिखाया,

कभी गलती बताकर कभी गलती छुपाकर,

एक सच्चे गुरु का फर्ज निभाया,

कभी माता – पिता बन दी सलाह,

कभी दोस्त बन हौसला बढ़ाया।

आज कहते हैं उन टीचर्स को बड़ा सा थैंक यू,

जिन्होंने हमें इस काबिल बनाया।

 

गुरु

जो हमको ज्ञान बाँटता है

पढ़ाकर हमें कुछ काबिल बनाता है।

इसलिए गुरु का नाम

ईश्वर से पहले आता है।

यही अँधेरे को मिटाता है

छोटा सा ज्ञान का दीपक जलाता है

हमें हमारी मंजिल दिखता है

सच्चाई की राह बताता है

इसलिए गुरु का नाम

ईश्वर से पहले आता है

हमारी बुरी आदतों को छुड़ाता है

जरुरत पड़ने पर दंड देकर

हमें सही राह पर लाता है

इसलिए गुरु का नाम

ईश्वर से पहले आता है।

 

शीर्षक- गुरु की महत्ता पर कविता 

Teachers are our special friends.

They guide us in every sense.

They teach us how to live in peace.

And love each other too.

They tell us nice matters.

Loading...
Copy

Which makes our life a glitter.

They stand solemnly and look at us tenderly.

They love us specially and dearly.

I love my teacher really

She is like a rose among

Flowers surely.

There are brothres, sisters, parents dear,

All worldly creatures too,

The Dearest is a teacher,

Who fill us with knowledge true.

A mother’s love and father’s care,

We all get throughout out,

But the Blessed wise care,

Is a teacher’s gift no doubt.

The knowledge gained to develope man,

Is a gift teacher’s brain,

Then try to teach the most they can,

And never for the gain,

They cheer us all and make us rise,

Strike to make us wise,

A teacher, you will best realize,

Is like a good in disguise.

 

शीर्षक- सर्वोत्तम गुरु

गुरु है सकल गुणों की खान

गुरु, पितु, मातु, सुजन, भगवान,

ये पाँचों हैं पूज्य महान।

गुरु का है सर्वोच्च स्थान,

गुरु है सकल गुणों की खान।

कर अज्ञान तिमिर का नाश,

दिखलाता यह ज्ञान-प्रकाश।

रखता गुरु को सदा प्रसन्न,

बनता वही देश सम्पन्न।

कबिरा, तुलसी, संत-गुसाईं,

सबने गुरु की महिमा गाई।

बड़ा चतुर है यह कारीगर,

गढ़ता गाँधी और जवाहर।

आया पावन पाँच-सितम्बर,

श्रद्धापूर्वक हम सब मिलकर।

गुरु की महिमा गावें आज,

शिक्षक-दिवस मनावें आज।

एकलव्य-आरुणि की नाईं,

गुरु के शिष्य बने हम भाई।

देता है गुरु विद्या-दान,

करें सदा इसका सम्मान।

अन्न-वस्त्र-धन दें भरपूर,

गुरु के कष्ट करें हम दूर।

मिल-जुलकर हम शिष्य-सुजान,

करें राष्ट्र का नवनिर्माण।

 

शीर्षक- गुरु भक्ति

गुरु का महत्व जीवन में सबसे ज्यादा होता है,

उसके बिना जीवन का ना कोई सहारा होता है।

पल पल सही मार्ग दिखाता वो अंधेरे में उजाला होता है,

गुरु से बढ़कर कोई नहीं उम्मीदों का सवेरा होता है।

गुरु का सम्मान करो उसका यू ना अपमान करो

हमेशा झुको चरणों में अमृत का तुम पान करो।

गुरु जी होते है सबसे प्यारे तुम सब उनका सम्मान करो

कभी जो आती है मुश्किल तुम गुरुवर का ध्यान करो

गुरु का महत्व जीवन में सबसे ज्यादा होता है,

उसके बिना जीवन का ना कोई सहारा होता है।

 

Guru poem in hindi

क्या लिखूं उसके बारे में जिसने जीवन का सार बताया है

इस दुनिया में रहने का तोर तरीका सिखाया है।।

जब भी कभी हिम्मत टूटी मेरा हौसला बढ़ाया है

गुरु ने मुझे मेरे जीवन का सम्मान दिलाया है।।

हमेशा रखा अपने पास ज्ञान का भंडार बताया है

शिक्षा देकर मुझे अमूल्य जीवन का अर्थ बताया है।।

अपने हिस्से की खुशियां देकर मुझे गुणवान बनाया है

गुरु ने मुझे हमेशा अपनी पलकों पर बिठाया है।।

 

शीर्षक- गुरजी

सबसे प्यारे होते है गुरुजी

हम सबके सम्मान होते है गुरुजी

कोई नहीं होता हमारे पास

दुख में मरहम होते है गुरुजी।।

कभी कभी प्यार से बुलाते

कभी डंडे से मारते है गुरुजी

हर पल हमको प्यार भी करते

हर पाठ पढ़ाते है गुरुजी।।

जब भी कभी राह से भटक जाए

सही रास्ता बताते है गुरुजी

मुझे अपनी दुनिया से

रूबरू करवाते है गुरुजी।।

मै उनका मोल चुका नहीं सकता

अमूल्य खजाना होते है गुरुजी

अपने साथ हमें हमेशा रखते

गुणों की खान होते है गुरुजी।।

 

 Poem on Guru in hindi

सम्मान करूंगा मैं सदा

मान करूंगा मै सदा

गुरुवर के चरणों में

प्रणाम करूंगा मैं सदा।।

मुझे नहीं चाहिए कुछ

गुरुवर की सेवा करूंगा सदा

उनके लिए कुछ भी कर जाऊं

उनको प्यार करूंगा सदा।।

जिसने मुझे जीना सिखाया

उसके साथ रहूंगा सदा

जहां मिलेगा गुरु का साथ

वहीं करूंगा वास सदा।।

हृदय में गुरु को बसाकर

उनका ध्यान करूंगा सदा

गुरुवर की पूजा करते करते

उनका मान रखूंगा सदा।।

 

गुरु पर सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कविता

हमेशा मुझे सहारा दिया

टूटी हुई कश्ती को किनारा दिया है

गुरु ने मुझे अपने दिल में

खुद से ज्यादा स्थान दिया है।।

सदा प्यार से रखा उन्होंने

मुझे हर सबक दिया है

जिंदगी कैसे जीनी है

उन्होने मुझे ज्ञान दिया है।।

उनके ज्ञान का मान रखु

मैने ये आशीर्वाद लिया है

गुरु के चरणों को मैने

भगवान का स्थान दिया है।।

जहां नहीं रहता कोई

मैने उन्हे सम्मान दिया है

गुरु होते है सबसे महान

मैने उन्हे प्रणाम किया है।।

 

Hindi poem Guru purnima

गुरु का मोल हम कभी चुका नहीं सकते

उनके दिए ज्ञान को भुला नहीं सकते

गुरु के चरणों में होते है चारो धाम

हम ये बात झुठला नहीं सकते।।

गुरु होते है हमारे लिए अनमोल

उनका कभी अपमान कर नहीं सकते

गुरु से होती है हमारी पहचान

उनको निराश कभी कर नहीं सकते।।

गुरु से है दुनिया हमारी

गुरु के बिना जी नहीं सकते

हम है उनके शिष्य

गुरु का अपमान हम सह नहीं सकते।।

कभी कभी प्यार जताते है

हम उन्हे बता नहीं सकते

दिल से करते है उनके सम्मान

दिल में उन्हें अपनी जगह दिखा नहीं सकते।।

 

गुरु भक्ति पर कविता 

अधखिले पुष्प बने ओजस,

अज्ञान तिमिर नित दूर करे ।

प्रफुल्लित हो मन ज्ञान कुंभ से,

खुशियों से जीवन मंगल करे।

भार संभाले पथ प्रदर्शन का,

निज जीवन को अर्पित कर ।

सभ्य समाज की नीव संजोता,

स्वर्णिम भविष्य को बनाकर ।

त्रिलोक बसा है चरणों में ,

अज्ञानता पर विजय है पायी।

जन्म दिया है माता-पिता ने ,

जीने की कला है सिखलायी।

अज्ञानी को ज्ञान वो दे

एक अलग नई पहचान वो दे

जब लगने लगे सब थक से गए

नई ऊर्जा और नई जान वो दे।

जब साथ वो रहता है अपने

बुरा वक़्त पलटता जाता है

सागर से ज्ञान सा भरा हुआ

बस वही गुरु कहलाता है…

 

शीर्षक- गुरु-शिष्य

शिष्य का नाम बढे जग में

उसका यही अरमान है

सबके हृदय में उसके लिए

इसलिए सम्मान है।

कभी छोड़ न मझदार में वो

मरते दम तक साथ निभाता है

सागर से ज्ञान सा भरा हुआ

बस वही गुरु कहलाता है…

नहीं अहंकार में कभी रहे

हर बात सदा ही सत्य कहे

उसके पावन उपदेशो में

अनुभव की सदा तरंग बहे

कोई आम शख्सियत नहीं है वो

हर देश का भाग्य विधाता है

सागर से ज्ञान सा भरा हुआ

बस वही गुरु कहलाता है…

Related Post ( इन्हें भी जरुर पढ़े )

टीचर्स डे शायरी : Click Here
शिक्षक पर 30 महान अनमोल वचन : Click Here
शिक्षक दिवस भाषण और निबंध : Click Here
गुरु शिष्य की कहानियाँ : Click Here
गुरू शिष्य संबंध पर कविता : Click Here
गुरू शिष्य स्टेटस : Click Here

आशा करती हूँ कि ये ‘Poems on Teachers Day In Hindiछोटे और बड़े सभी लोगों के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। गर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसमें निरंतरता बनाये रखने में आप का सहयोग एवं उत्साहवर्धन अत्यंत आवश्यक है। आशा है कि आप हमारे इस प्रयास में सहयोगी होंगे साथ ही अपनी प्रतिक्रियाओं और सुझाओं से हमें अवगत अवश्य करायेंगे ताकि आपके बहुमूल्य सुझाओं के आधार पर इन निबंधो को और अधिक सारगर्भित और उपयोगी बनाया जा सके।

अगर आपके पास इससे संबंधित कोई सुझाव हो तो वो भी आमंत्रित हैं। आप अपने सुझाव को इस लिंक Facebook Page के जरिये भी हमसे साझा कर सकते है. और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं।

 [FREE e – book “ पैसे का पेड़ कैसे लगाए ” [Click Here]

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

Leave a Reply

Your email address will not be published.