Hindi Kahani Hindi Post Hindi Stories

धैर्य का फल मीठा होता है (Dhairya Ka Phal Meetha Hota Hai)

‘धैर्य का फल मीठा होता है’ कहानी

सब्र का फल (Sabra Ka Phal Meetha Hota Hai)
सब्र का फल (Sabra Ka Phal Meetha Hota Hai)

धैर्य का फल मीठा होता है। ये एक प्रसिद्ध कहावत हैं । English में इस मुहावरे को Sweet are the fruits of adversity कहा जाता हैं। यहाँ इस कहावत पर एक कहानी उपलब्ध करा रही हूँ। यह एक प्रेरणादायक कहानी है ।

‘धैर्य का फल मीठा होता है’ (Story on Patience In Hindi)

भारत देश के एक छोटे से गांव की यह घटना है। एक युवक ने अपने जीवन में सफलता प्राप्त करने का दृढ़ संकल्प किया था। बड़ी लगन और धैर्य के साथ उसने एम.ए. तक की शिक्षा प्राप्त की थी। शिक्षा की समाप्ति के बाद उसने नौकरी खोजना प्रारंभ किया ताकि पारिवारिक जिम्मेदारी का निर्वाह हो सके।

इतनी अच्छी शिक्षा प्राप्त करने के बाद भी यह उसका दुर्भाग्य था कि उसे कहीं काम नहीं मिला। नौकरी की तलाश में जगह-जगह भटका, खूब प्रयास किये किंतु हर स्थान से उसे निराशा ही प्राप्त होती थी। लेकिन अच्छी बात यह थी कि युवक ने मात्र किताबी शिक्षा ग्रहण नहीं की थी अपितु जीवन में धैर्य कैसे रखा जा सकता है, इसके सूत्र भी उसने हृदयंगम किये थे। अत: आशावादी बनकर वह हर परिस्थिति का सामना करने लगा और उसकी खोज लगातार जारी रही। और इस कार्य में उसका आत्मविश्वास उसे बल देता था। फिर तो जहाँ चाह की इतनी उत्कृष्टता हो वहां राह को सात समंदर पार करके भी आना पड़ता है।

एक दिन वह काम की तलाश करता हुआ एक सेठ के बंगले पर पहुंचा जो बहुत बड़ा व्यापारी था। युवक ने सोचा सेठ के पास कई काम हो सकते हैं। जिस समय वह सेठ के घर पहुँचा उस समय वे अपनी गाड़ी में बैठकर जाने की तैयारी में थे।

युवक सेठ को आदरपूर्वक नमस्कार करके प्रार्थना के स्वर में बोला – “सेठ जी ! मैं काम की तलाश में आप तक पहुँचा हूँ। यदि मेरे लायक आपके पास कोई काम हो तो मुझे अवश्य दिया जाए, मैं एम.ए. पास हूँ।

सेठ ने एक गहरी दृष्टि युवक पर डाली और उसकी उत्कंठा व मजबूरी का एहसास करते हुए बोले – “एक काम करो, ये जो सामने पत्थरों का ढेर पड़ा है इन्हें उठाकर इसी बगीचे के दूसरे कोने में रख दो। जब तुम्हारा कार्य पूर्ण हो जाए तब मुझसे ऑफिस में आकर मिलना।”

एक पल की देरी किए बिना वह युवक श्रमपूर्वक कार्य में जुट गया। एक-एक करके उसने वे सारे पत्थर उठाने प्रारंभ कर दिए। बड़ी लगन और कड़ी मेहनत के साथ उसने सेठ के द्वारा बताए गए स्थान पर वे सारे पत्थर रख दिए। लगभग 4 घंटे में उसका यह कार्य पूर्ण हो गया तब वह सेठ के कार्यालय पहुँचा और कार्य पूरा हो जाने की सूचना दी।

सेठ ने युवक को बुलाकर पूछा – “यह काम हो गया, क्या तुम और भी काम करना चाहते हो?” उसने विनम्र स्वर में कहा – “जी ! मैं काम करना चाहता हूँ।” सेठ ने उसके साहस और धैर्य की परीक्षा लेने के लिए कहा अब तुम उन पत्थरों को उसी स्थान पर रख दो जहाँ से उठाए थे।

सेठ का आदेश पाकर युवक पुनः सेठ के बंगले पर आया और पूरे उत्साह के साथ काम करने लग गया। उसका लक्ष्य मात्र एकनिष्ठता से काम करना था। काम क्या है कैसा है इस ओर उसका तनिक भी ध्यान नहीं था। वह पूर्ण लगन के साथ कार्य में जुट गया। शाम तक वह काम पूरा हुआ और वह ऑफिस पहुँचा। सेठ ने मुस्कुराते हुए कहा “यदि और काम करना चाहते हो तो कल आ जाना।” इतना कहकर सेठ ने उसे सौ रुपये दिए।

दूसरे दिन भी ठीक वही कहानी दोहराई गई। आज भी युवक को उन्होंने वही काम बताया और उसने उसी धीरज से काम पूरा किया। चाहे काम का कोई सिर – पैर उसे समझ में नहीं आ रहा था फिर भी वह प्रसन्नतापूर्वक परिश्रम करता रहा।

सायंकाल सेठ ने पूछा – “क्या और काम करना चाहते हो?” उसने कहा, जी ! मैं निरन्तर काम करना चाहता हूँ। श्रम करना मेरे जीवन का लक्ष्य है अत: मैं हर परिस्थिति में काम करने को तैयार हूँ। उसके हाँ कहने पर सेठ ने कहा – “क्या यही काम करोगे?” उसने कहा – “जो आप बताओगे वही करूंगा। यदि आप ये काम दुबारा बताओगे तो मुझे उसे भी पूरे उत्साह के साथ करने में कोई आपत्ति नहीं है।

इतना सुनते ही सेठ ने कुर्सी से उठकर युवक की पीठ थपथपाते हुए कहा – “शाबाश बेटे ! मैं तुम्हारे धैर्य की परीक्षा ले रहा था। कल से तुम मेरे ऑफिस के मैनेजर नियुक्त किए जाते हो। यह सुनकर उसके चेहरे पर मुस्कुराहट फ़ैल गई। उसका रोम-रोम हर्षित हो गया और वह अनिमेष दृष्टि से सेठ की आंखों में झांकता हुआ उनके चरणों में झुक गया।

युवक बड़ी प्रसन्नता के साथ घर पहुँचकर पत्नी से सारी बात बताकर अंत में बोला ‘धैर्य का फल मीठा’।

परहित सरिस धर्म नहिं भाई Click Here

कल करे सो आज कर आज करे सो अब Click Here

जाको राखे साइयां मार सके न कोय Click Here

सोते समय की बच्चो के लिए 7 बेहतरीन नैतिक कहानी Click Here

पंचतंत्र की कुछ प्रसिद्ध चटपटी और मजेदार कहानीयां Click Here

नैतिक मूल्यों पर आधारित कहानी लालच बुरी बला है Click Here

आशा करती हूँ कि ये Short Moral and Inspirational कहानी छोटे और बड़े सभी के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। गर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसमें निरंतरता बनाये रखने में आप का सहयोग एवं उत्साहवर्धन अत्यंत आवश्यक है।

Loading...

अत: आशा है कि आप हमारे इस प्रयास में सहयोगी होंगे साथ ही अपनी प्रतिक्रियाओं और सुझाओं से हमें अवगत करायेंगे ताकि आपके बहुमूल्य सुझाओं के आधार पर इस नैतिक कहानी को और अधिक सारगर्भित और उपयोगी बनाया जा सके। अगर आपके पास इससे संबंधित कोई सुझाव हो तो वो भी आमंत्रित हैं। आप अपने सुझाव को इस लिंक Facebook Page के जरिये भी हमसे साझा कर सकते है. और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं.

 FREE e – book “ पैसे का पेड़ कैसे लगाए ” [Click Here]

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

Leave a Reply

Your email address will not be published.