Hindi Post Nibandh Aur Bhashan Vrat-Tyohar

दिवाली पर 10 लाइन – 10 Lines on Diwali for Children In Hindi

10 Lines on Diwali in Hindi, for Class 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 & 10

10 Lines on Diwali in Hindi - Essay
10 Lines on Diwali in Hindi – Essay

दीपावली के उपलक्ष्य में हमने यहाँ निबंध तैयार किया है जो की दस लाइन की है। और यह निबंध क्लास 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 & 10 के विद्यार्थियों के लिए विशेष रूप से उपयोगी है।

10 lines on Diwali In Hindi for Class 2 & 3

1- दीपावली भारत का सबसे लोकप्रिय त्योहार हैं।

2- इसे ज्योतिपर्व या प्रकाश उत्सव के नाम से भी जाना जाता है।

3- दीपावली का त्योहार कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है।

4- इस दिन लोग अपने घरों को खूब सजाते हैं तथा नए या फिर साफ सुधरे कपड़े पहनकर कर माँ लक्ष्मी की पूजा करते है। 

5- लोग अपनी खुशियों का इजहार पटाखे जलाकर भी करते है। 

6- दीपावली के दिन घी के दीये भी जलाएं जाते हैं।

7- यह पर्व पूरे भारत में बहुत ही धूमधाम व हर्सोल्लास से मनाया जाता है।  

8- इस दिन स्कूल और सरकारी दफ़्तर बंद रहते हैं।

9- यह अंधकार पर प्रकाश की जीत का महापर्व है।

10- और यही इस पर्व का अमर संदेश है।

10 lines on Diwali In Hindi for Class 4 & 5

1- दीपावली का त्यौहार मुख्यतः हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहारों है। जो सामान्यत: धन तेरस या धन त्रयोदशी से शुरू होता है और भाई दूज तक चलता है। 

2- अंग्रेज़ी कैलेंडर के अनुसार दीपावली अक्टूबर से नवंबर के बीच आता है। और कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या का दिन दीपावली होता है।

3- पौराणिक कथानुसार कार्तिक अमावस्या को भगवान् श्रीरामचंद्रजी चौदह वर्ष का वनवास भोगकर तथा आसुरी वृत्तियों रावणादि का संहार करके अयोध्या पधारे थे। सभी अयोध्यावासियों ने उनके आने की ख़ुशी में दीपमालाएँ जलायी जिससे कार्तिक अमावास की रात, वर्ष की सबसे जगमगाती रात बन गई। तब से दिवाली अँधेरे पर प्रकाश की जीत का पर्व के रूप में मनाया जाता है।

4- अत: इस दिन घर – बाहर को खूब साफ-सुथरा करके सभी लोग घी का दीपक जलाते है जिससे कि अमावस्या का अंधकार मिट जाता है।

5- दीपावली की रात को लक्ष्मी एवं गणेश की पूजा करने की भी परम्परा है। इसी दिन से व्यापारी लोग अपने बही-खाते भी शुरू किया करते हैं।

6- इस दिन लोग एक दूसरे से मिलकर इस दिन की ढेरों बधाई एवं शुभकामनाएं देते हैं और गिफ्ट के तौर पर मिठाई भेंट करते हैं। 

7- दीपावली से पहले धन तेरस पर्व आता है। मान्यता है कि इस दिन कोई-न-कोई नया वर्तन अवश्य खरीदना चाहिए। इस दिन नया वर्तन खरीदना शुभ माना जाता है।

8- दिवाली का त्यौहार अँधेरे पर प्रकाश की जीत का पर्व के रूप में मनाया जाता है।

9- यह त्यौहार हिन्दू धर्म में एक विशेष महत्व रखता है। 

Loading...

10- वैसे तो दिवाली हिन्दू समुदाय का एक धार्मिक त्यौहार है लेकिन भारतवर्ष में इसे सभी धर्मो के लोग मिलकर मनाते है।

10 Lines on Diwali in Hindi, for Class 6, 7, 8, 9 & 10

1- हमारे जीवन में प्रकाश फैलाने वाला दीपावली का त्यौहार कार्तिक मास की अमावस्या के दिन मनाया जाता है। इसे दिवाली, प्रकाशोत्सव या प्रकाश पर्व भी कहा जाता है। इस दिन अमावस्या की अंधेरी रात दीपकों व मोमबत्तियों के प्रकाश से जगमगा उठती है।

2 – इस त्यौहार के आगमन की प्रतीक्षा लगभग हर किसी को होती है। सामान्यजन जहाँ इस पर्व से आने से माह भर पहले ही घरों की साफ-सफाई, रंग-पुताई में जुट जाते हैं। वहीं व्यापारी तथा दुकानदार भी अपनी-अपनी दुकानें सजाने लगते हैं। व्यापारी वर्ग इस दिन को शुभ मानता है। दीपावली के दिन वे लक्ष्मी और गणेश की पूजन करते हैं। इस त्यौहार से व्यापारी लोग अपने बही-खाते शुरू किया करते हैं।

3- इस दिन बाजार में मेला जैसा माहौल रहता है। बाजार तोरणद्वारों तथा रंग-बिरंगी पताकाओं से सजाये जाते हैं। इस दिन खिल-बताशों तथा मिठाइयों की खूब बिक्री होती है। बच्चे अपनी इच्छानुसार बम, फुलझड़ियाँ तथा अन्य आतिशबाजी खरीदते हैं।

4- जिस सप्ताह में यह त्यौहार आता है उसमें पाँच त्यौहार होते हैं। सबसे पहले इसमें आता है धनतेरस। धनतेरस के बाद आती है छोटी दीपावली, फिर आती है दीपावली। इसके अगले दिन आता है गोवर्द्धन पूजा तथा अन्त में मनाया जाता है भैयादूज का त्यौहार।

5- दिवाली के समय मनाए जाने वाले इन पर्वों के कारण दीपावली को पांचदिनी पर्व या पांच दिवसीय दीपोत्सव का पर्व भी कहा जाता हैं।

6- अन्य त्योहारों की तरह दीपावली के साथ भी कई धार्मिक तथा ऐतिहासिक घटनाएँ जुड़ी हुई हैं। एक पौराणिक कथानुसार भारतीय संस्कृत के आदर्श पुरुष श्री राम लंका नरेश रावण पर विजय प्राप्त कर इसी दिन सीता-लक्ष्मण सहित अयोध्या लौटे थे। उनके अयोध्या आगमन पर अयोध्यावासियों ने भगवान श्री राम के स्वागत के लिए घरों को सजाया व दीपमालिका की।

7- वही एक अन्य पौराणिक कथा के मुताबिक समुद्र-मंथन करने से प्राप्त चौदह रत्नों में से एक देवी लक्ष्मी भी इसी दिन प्रकट हुई थी। इसके अलावा चैन मत के अनुसार तीर्थंकर महावीर का महानिर्वाण भी इसी दिन हुआ था।

8- कुछ अन्य लोक-कथाओं एवं लोक काव्यों में दिए गए विवरण के अनुसार इस दिन कृष्ण ने नरकासुर नामक राक्षस का वध किया था। इस प्रकार एक रूप से उन्होंने अन्याय व अत्याचार का दमन किया जिससे अत्याचार और अन्याय से ग्रस्त व्यक्ति प्रसन्न हो उठे थे। दीपावली / दिवाली भगवान् कृष्ण की अदम्य शक्ति की उसी विजय गाथा का प्रतीक माना जाता है।

9- इस त्यौहार का सांस्कृतिक एवं आर्थिक पहलू भी है। क्योंकि भारत एक कृषि प्रधान देश है। खरीफ की फसल जो प्राय: प्रत्येक ग्रामीण करता है। और उसकी ये फसल दिवाली के अवसर पर पक कर तैयार होती है जिसे देखकर भारत का हर किसान आनन्द से भर उठता है, क्योंकि उसके लिए वही जीवन है, वही उसका धन है। वही उसकी समृद्धि है और अपनी इस सम्पूर्ण समृद्धि के कारण उसे जो प्रसन्नता होती है। उसी का प्रतीक दीपावली है।

10- वैज्ञानिक दृष्टि से भी इस त्यौहार का अपना एक अलग महत्व है। इस दिन तेल वाले दीपों से निकलने वाले धुएँ व घरों में की जाने वाली सफाई से वातावरण में व्याप्त कीटाणु समाप्त हो जाते हैं। मकान और दुकानों की सफाई करने से जहाँ वातावरण शुद्ध होता है वहीं वह स्वास्थ्वर्द्धक भी हो जाता है।

कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं व शराब पीते हैं, जोकि आशा, प्रकाश, ज्ञान एवं सौहाद्र की मंगलकामना के इस पर्व पर एक तरह का कलंक है। इसके अलावा पटाखे छोड़ने के दौरान हुए हादसों के कारण दुर्घटनाएँ हो जाती हैं, जिससे धन-जन की हानि होती है। इन बुराइयों पर अंकुश लगाने की आवश्यकता है।

माँ पर 10 लाइन Click Here
दशहरे पर 10 लाइन Click Here

होली पर निबंध Click Here
दशहरा पर निबंध Click Here
दिवाली पर निबंध Click Here
वसंत पंचमी पर निबंध Click Here

आशा करती हूँ कि ये निबंध छोटे और बड़े सभी स्टूडेंट्स के लिए उपयोगी सिद्ध होगी। अगर आपके पास इससे संबंधित कोई सुझाव हो तो वो भी आमंत्रित हैं। आप अपने सुझाव को इस लिंक Facebook Page के जरिये भी हमसे साझा कर सकते है. और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं.

 FREE e – book “ पैसे का पेड़ कैसे लगाए ” [Click Here]

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *