Bhashan Hindi Post Nibandh Nibandh Aur Bhashan

पिता पर निबंध – Essay on My Father in Hindi

पिता पर निबंध – Essay on My Father in Hindi

My Father Essay in Hindi
My Father Essay in Hindi

यहां हम आप छात्रों के लिए पिता पर 100, 200, 300, 400 और 500 शब्दों में हिन्दी भाषा में निबंध उपलब्ध करा रहे हैं। तो चलिए देखतें हैं –

मेरे पिता पर निबंध 1 (100 शब्द)

मेरे पिता का नाम सत्यप्रकाश है। वह चालीस साल के हैं। वह एक आर्किटेक्ट हैं और अपनी खुद की कंपनी चलाते हैं। वह बहुत ही मेहनती और ईमानदार व्यक्ति हैं । वे कभी भी उन गतिविधियों में शामिल नहीं होते, जो नैतिक रुप से गलत होता हैं।

वे मुझे सुबह जल्दी उठने और सही समय पर स्कूल के लिए तैयार होने में मदद करते हैं। जब मेरी माँ मेरा नाश्ता और दोपहर का भोजन तैयार करती है, तो वे ही है जो मुझे तैयार होने में मदद करते हैं।

वह घर के कामों में मेरी मां की भी मदद करते हैं। वह बहुत ही फुर्तीले इंसान है, इसलिए जब वह ऑफिस से आते है, तो वह मेरे साथ क्रिकेट खेलना शुरू कर देते है। और हमारी छुट्टियों को भी एक सुखद छुट्टी बनाने के लिए, पार्क में हर रविवार की सुबह या अन्य पसंदीदा स्थानों पर हमें ले जाते हैं।

वह अनुशासन में विश्वास करते हैं। वह एक ऐसे पिता हैं जो मुझे शिष्टाचार, मानवता और नैतिकता के बारे में सिखाते हैं। वे मुझे अपने जीवन के सभी संघर्षों और सफलताओं के बारे में भी बताते हैं; और मेरी समस्याओं को बहुत धैर्य से सुनते हैं और उन्हें हल करने में मेरी मदद करते हैं। 

मैं उनसे बहुत प्यार करता हूं, और वह मेरी सबसे बड़ी ताकत हैं। मैं भाग्यशाली हूँ जो हमारे पास एक विनम्र पिता हैं।

मेरे पिता मेरा अभिमान पर निबंध 2 (200 शब्द)

मेरे पिता का नाम रवीन्द्र नाथ सिंह है। उन्होंने अपनी उम्र के साठ वसंत पार कर लिए है। पहले वे Life Insurance Corporation (एल आई सी) में कार्यरत थे लेकिन रिटायरमेंट के बाद से उनका अधिकांश समय समाजसेवा का कार्य करते हुए ही बीतता हैं। मेरे पिता में वे सारे गुण है जो जीवन भर परिस्थितियों के अनुसार ढलने के काम आते हैं।

मेरे पिता ने ही हमें छोटे से बड़ा किया, पढ़ाया, लिखाया, और एक कामयाब इन्सान बनाया। हर तरह की परेशानियों से निबटने में जिस तरह से उन्होंने मेरी मदद की, जो संस्कार उन्होंने मुझे दिए वो अनमोल है अद्भुत है। पिताजी की इन्हीं सब विशेषताओं के कारण ही मेरी नजरों में उनकी महानता और अधि‍क बढ़ जाती है।

मुझे फ़क्र ऐसे पिता पर जो बिना किसी लोभ के हमारे लिए पूरी जिंदगी मेहनत करते रहें ताकि हम पढ़ लिख कर बड़ा आदमी बने और उनका नाम गर्व से ऊँचा करें। आज भी पिताजी को चाहे कितनी भी आर्थिक कठिनाई हो लेकिन हमारी ख़्वाहिशों को पूरा करने के लिए उनकी जेब हमेशा भरी रहती हैं। बस एक कॉल की जरूरत और तुरंत पैसे अकाउंट में आ जाते है।

वास्तव में मेरे लिए वे पिता के रूप में एक भगवान हैं, जो समय-समय पर मुझे अच्छी और बुरी बातों का आभास कराकर आगाह करते हैं। मेरे जीवन में मेरे पिता जी से अच्छा मार्गदर्शक कोई मिला ही नहीं।

मैं अपने पिताजी के बेहद करीब हूँ। मेरे पिता मेरे लिए आदर्श है। उनमें वे सारी योग्यताएं मौजूद हैं जो एक श्रेष्ठ पिता में होती हैं। मैं उनको श्रद्धापूर्वक नमन करता हूँ।

मेरे पिता मेरे आदर्श पर निबंध 3 (300 शब्द)

मेरे पिता’ मेरे जीवन के सबसे अच्छे दोस्त और सच्चे नायक हैं। मैं हमेशा उन्हें डैड कहता हूं। वह मेरे जीवन में सबसे खास व्यक्ति हैं। वह बहुत अच्छे खिलाड़ी और कलाकार हैं। वे अपने खाली समय में पेंट करते हैं और हमें पेंटिंग करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। उनका कहना है कि हमें संगीत, गायन, वादन, एक्शन, पेंटिंग, नृत्य, कार्टून आदि में रुचि होनी चाहिए, क्योंकि इस तरह की अतिरिक्त गतिविधियां हमारे बचे हुए समय को व्यस्त रखती हैं और पूरे जीवन को शांत एवं खुश रखने में मदद करती हैं। वह नई दिल्ली की एक सीमित कंपनी में एक इंटरनेट प्रबंधक (एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर) है।

मेरे पिता एक कर्तव्यनिष्ठ, नेकदिल, आदर्शों पर चलने वाले किन्तु अति संवेदनशील व्यक्ति के रूप में वे अपने कार्यालय के साथ – साथ समाज में बहुत प्रसिद्ध व्यक्ति हैं। वह दूसरों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहते है। जब भी किसी को कोई समस्या होती है, तो वह उन्हें सलाह देते है। हमेशा दूसरों की परेशानियों में उसकी मदद करते हैं।

वो अकसर हमें भी नेक राह पर चलने की प्रेरणा देते हैं, सही -गलत, उचित -अनुचित, सत्य-असत्य, भला – बुरा इन सबके बीच फर्क बताते हैं। वो ऐसे पिता नहीं हैं जो हमारी हर एक फरमाइश पूरी करते हैं बल्कि मेरे पिता वो है जो ममता का अनजाना और अनदेखा रूप हैं जिसकी मौजूदगी कुछ बयां करे न करे पर गैर मौजूदगी बहुत कुछ कहती है।

असल जिंदगी में मेरे पिता ही मेरे सुपरहीरो है जिन्होंने ज़िन्दगी में मुझें अहम् फैसले लेने में मदद की।और हमेशा मेरे सबसे अच्छे दोस्त रहे हैं जो हर मुसीबत में मेरी मदद करते हैं। सही मायने में मेरे पिता मेरे जीवन के एक आदर्श हैं और हमेशा रहेंगे।

 FREE e – book “ पैसे का पेड़ कैसे लगाए ” [Click Here]

मेरे पिता मेरे भागवान पर निबंध 4 (400 शब्द)

इस निबंध में, मैं आपको अपने पिता के बारे में बताने जा रहा हूँ जिन पर मुझे बहुत गर्व है। मेरे जीवन को बनाने व सँवारने में मेरे पिता की भूमिका अहम् हैं। वह मेरी ज़िंदगी पर अनन्तकालीन प्रभाव डालने वाले, और मेरे सच्चे मार्गदर्शक है। उनके प्रभाव को किसी पैमाने से नापा या तौला नहीं जा सकता है। वैसे तो ज्ञान की शिक्षा देने वाले गुरू को श्रेष्ठ एवं महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन मेरे लिए मेरे पिता 100 अध्यापक के बराबर महत्व रखते हैं। मैं अपने पिता को भगवान का साक्षात रूप मानता हूँ। 

यद्यपि कभी-कभार वे हमारे साथ कठोर रवैया रखते हैं। लेकिन यह हमारे भले के लिए करते हैं। जबकि अन्दर से एक सौम्य व कोमल दिल वाले पिता हैं। उनका हृदय हम बच्चों के कल्याण की कामना से हमेशा भरा होता है। जैसे कुम्हार नहीं चाहता है कि, उसके हाथ के बनाये बर्तन टूट – फूट जायें. ठीक उसी प्रकार हमारे पिता भी नहीं चाहते कि उनके बच्चें कभी जीवन में असफल हो जायें। और जैसे कुम्हार ऊपर से चोट करता है किन्तु बर्तन को आकार प्रदान करने हेतु अन्दर हाथ का सहारा देता है, ठीक उसी प्रकार वे अपने बच्चों को उन्नति के पथ पर देखने के लिए हमें दण्ड देते हैं, डांटते हैं. पर पिता के साथ व सहयोग से ही मेरी जिंदगी की मुश्किल से मुश्किल राह आसान होती है इसमें कोई संदेह।

मेरे पिता मेरे सबसे पक्के दोस्त है और मेरी सभी समस्याओं को सुनते है और आवश्यकता पड़ने पर अच्छी सलाह देते हैं। भगवान ने ऐसे पिता का साथ हमें आशीर्वाद स्वरूप दिया है, इसे खुशकिस्मती ही कहेंगें। मेरे पिता का हमारे जीवन में होना अत्यंत आवश्यक चीजों में से एक हैं। मैं यह आशीर्वाद कभी खोना नहीं चाहूँगा। जब तक मैं जीवित रहूंगा, मेरे पिता मेरे दिल और विचारों में रहेंगे।

मेरे पिता मेरे सुपर हीरो पर निबंध 5 (500 शब्द)

जिस व्यक्ति की मैं अपने जीवन में हमेशा प्रशंसा करता हूं, वह केवल मेरे प्रिय पिता है। मेरे पिता ’दुनिया के सबसे प्यारे पिता हैं। वह मेरे असली हीरो, मेरे दोस्त, मेरी प्रेरणा और मेरे जीवन के सबसे अच्छे सलाहकार हैं। मेरे पिता मेरे लिए धरती पर ईश्वर का साक्षात रूप हैं।

मुझे आज भी अपने पिता के साथ बचपन के सारे पल याद हैं। वे मेरी खुशी और सफल जीवन के असली कारण हैं। मैं जो भी हूं, सिर्फ उनकी वजह से, क्योंकि मेरी मां हमेशा रसोई और अन्य घरेलू कामों में व्यस्त रहती थीं और ये ‘मेरे पिता’ ही हैं जो मेरे और मेरी बहन के साथ रहते थे।

Loading...

वह एक बहुत विनम्र और शांतिप्रिय व्यक्ति भी हैं। शायद इसीलिए कभी मुझसे कोई शिकायत नहीं करते हैं और मेरी सभी गलतियों को सरलता से लेते हैं। मैं अपनी गलतियाँ सुधार संकू अत: वह मुझे बहुत विनम्रता के साथ मेरी सभी गलतियों को महसूस कराते हैं।

निःसंदेह उनके उदाहरण मुझे प्रेरित करते हैं। मुझे बताने के लिए, वे अपने जीवन की कमियों और उपलब्धियों को साझा करते हैं। उनके पास ऑनलाइन मार्केटिंग का अपना व्यवसाय है लेकिन फिर भी वे उसी क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए दबाव नहीं डालते हैं, इसके बजाय मैं जो कुछ भी बनना चाहता हूँ, उसके लिए प्रोत्साहित करते हैं।

वे वास्तव में एक अच्छे पिता हैं, इसलिए नहीं कि वह मेरी मदद करते हैं, बल्कि अपने ज्ञान, ताकत, सहायक स्वभाव और विशेष रूप से लोगों को सही ढंग से संभालने के कारण।

वह हमारे परिवार का मुखिया हैं और बुरे समय में परिवार के हर सदस्य की मदद करते हैं। वे हमेशा अपने माता-पिता यानी की मेरे दादा-दादी का सम्मान करते हैं और हर समय उन पर ध्यान देते हैं। मुझे अभी भी याद है जब मैं छोटा था, मेरे दादा-दादी ने एक बार नहीं बल्कि कई बार मुझसे कहा कि मेरे पिता जी एक बहुत अच्छे इंसान हैं, और मैं उनके जैसा ही बनू।

पिताजी दादा-दादी को बहुत प्यार करते हैं और हमें भी उनकी देखभाल करना सिखाते हैं। वे हमें बताते हैं कि बूढ़े लोग भगवान की तरह होते हैं, हमें उनका पूरा ख्याल रखना चाहिए। मुश्किल समय में पुराने लोगों को कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि बुढ़ापा हर किसी के जीवन में आता है। वह ये भी कहते हैं कि जहाँ तक संभव हो, सभी आयु वर्ग के लोगों की मदद करनी चाहिए। वे अच्छी आदतों और नैतिकता के बारे में हर दिन 15 मिनट बात करते हैं।

एक गरीब परिवार में जन्म लेने वाले मेरे पिता अपनी धैर्य, कड़ी मेहनत और मददगार स्वभाव के कारण, वर्तमान में शहर के अमीर लोगों में से एक हैं। मेरे दोस्त आमतौर पर ऐसे पिता के बेटे होने पर मुझे बहुत भाग्यशाली कहते हैं। पर मैं इस तरह की टिप्पणियों पर हंसता हूं और अपने पिता को बताता हूं, तो वे भी हंसते हैं, बरहाल मेरे दोस्त जो भी सोचते हो, लेकिन सच्चाई यह है कि मेरे पिता के जीवन और उनकी बातों में ऐसा बहुत कुछ है, जिससे सफलता की प्रेरणा ली जा सकती है

सीधे शब्दों में कहें तो, मेरे लिए मेरे पापा दुनिया के सबसे अच्छे पापा हैं। मुझे लगता है कि वह दुनिया के सबसे अलग पिता हैं। मैं अपने जीवन में ऐसे पिता के होने से खुद को बहुत धन्य मानता हूं। मैं हमेशा भगवान का शुक्रिया अदा करता हूं कि मुझे इतने अच्छे पिता के परिवार में पैदा होने का मौका मिला।

इस पिता पर प्रेरणादायक निबंध के साथ ही आप गर इस तरह के और भी पिता पर अनमोल वचन एवं सुविचार या स्टेटस पढ़ने के इच्छुक हो तो नीचे दी गई हमारी सूची पर जाएं।

पिता व्हाट्सएप्प, एफबी स्टेटस Click Here

पिता पर अनमोल वचन व सुविचार Click Here

पिता पर कविता और शायरी Click Here

पितृ दिवस पर बधाई सन्देश Click Here

पिता को जन्मदिन की बधाई Click Here

उम्मीद है की आपको ये पिता पर निबंध का संग्रह पसंद आया होगा. इस My Father Essay in Hindi के साथ आप हमारे  Facebook Page को भी पसंद करे. और हाँ यदि future posts सीधे अपने inbox में पाना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी email subscription भी ले सकते है जो बिलकुल मुफ्त है .

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *