Hindi Post Motivational Nibandh Self Improvement

जीवन के अनुभव से बड़ी सीख – Life Experience In hindi

जीवन में अनुभव का महत्व

Apne Jivan ke Anubhav Essay in Hindi
Apne Jivan ke Anubhav Essay in Hindi

मेरी आज की पोस्ट का शीर्षक अनुभव यानि तजुर्बा हैं। यकीनन आपके लिए यह कोई नया शब्द नहीं होगा; क्योंकि अपने दैनिक जीवन में अकसर यह शब्द सुनते ही रहते हैं कि फला टीचर को हिन्दी विषय का बड़ा अनुभव है उन्हीं से कोचिंग पढ़ना चाहिए, बुजुर्गों को जिंदगी का असली तजुर्बा होता हैं इसलिए वह हमारा सही मार्गदर्शन कर सकते हैं या फिर जिंदगी का अनुभव मेरा बहुत ख़राब है इत्यादि।

कहने का अर्थ है कि, इंसान बनने की राह में अनुभव का विशेष स्थान है। यह अनुभव सामान्य हों या महत्वपूर्ण सभी इंसानों के जीवन में महत्व रखता है । इनसे हानि का कोई आधार नहीं होता। बल्कि इनसे तो जीवन निखरता है। यदि आप वास्तविकता में अपना मूल्य बढ़ाना चाहते है और अपने जीवन की सफलता सुनिश्चित करना चाहते है तो अपने अनुभवों से सीख लेना अभी से शुरू कर दें। क्योंकि आपके अनुभव आपकी जिंदगी से कमाया हुआ वह फल है, जो आपको हर समय काम आयेगा। आपके अनुभव आपकी ऐसी कीमती वस्तु हैं जो, जितना अधिक पास होगा, उतना ही वो खास होगा और आप सारे जहा में बाट सकेंगें, फिर भी वो ख़तम नहीं होगी। आपको बस कुछ बातें अमल में लानी होंगी…

**************************************************************************

इसे भी पढ़े :

नैतिक शिक्षा से दें अपने बच्चों को अच्छे संस्कार

नैतिक मूल्य परक शिक्षा की अनिवार्यता और महत्व

अच्छे स्पर्श और खराब स्पर्श के बारे बच्चो को कैसे बताए

**************************************************************************

जीवन में पछतावा करना छोड़ो, कुछ ऐसा करो कि तुम्हें छोड़ने वाले पछताऐ।

हम सब अपने जीवन में कई कठिन परीक्षाओं से गुजरते रहते हैं। कई बार गलतियां होती हैं तो कई बार विफल रह जाते हैं। कई बार तो जीवन में ऐसी घटनाएँ घटती है, जिनको लेकर हम जीवन भर रोते रहते है, ऐसा समझते है कि मानों सब कुछ ख़त्म हो गया। कभी – कभी तो लगता है कि ईश्वर हमारे साथ ही ऐसा क्यों करते हैं, आखिर क्यों बार – बार मुश्किलें आती है। लिहाजा यह सोचकर हम लोग और परेशान हो जाते हैं। जबकि मुश्किलें तो जीवन का एक दृष्टिकोण है, जो हमें यह बताता है कि जीवन को कैसे जिया जाए। यदि मुश्किलों से सामना ही न हो तो वह जीवन कैसा ?

नीरस है वह जीवन, जिसमें संघर्ष नहीं, मुश्किलें नहीं। या यूं कहें कि मुश्किलें तो हर किसी के दिल के इरादे आजमाती हैं, स्वप्न के परदे निगाहों से हटाती हैं। हौसला मत हार गिर कर ओ मुसाफिर, ठोकरें इंसान को चलना सिखाती हैं। इतना ही नहीं जिंदगी की वास्तविक समझ इन मुश्किल बाधाओं से मिलने वाले अनुभवों से ही पैदा होती है।

मुश्किलों से उपजे जिंदगी के अनुभव से बड़ा और बेहतरीन न कोई मार्गदर्शक होता है, न कोई शिक्षक होता है और न ही कोई सचेतक होता हैं। अनुभव रहित जीवन बिन पतवार की हिचकोले खाती हुई नाव के सामान है। लेकिन अनुभव तभी गुणकारी होता है जब हम उसे कर्म की कसौटी पर उसके खरे पन को जांचते है और बदली हुई परिस्थितियों के हिसाब से उसमे निरंतर सुधार लाते रहे।

कड़वे अनुभव हैं शिक्षक 

महान वैज्ञानिक नील्स बोर न फर्राटे से बोल पाते थे और न सही ढ़ंग से लिख पाते थे। स्कूल में उन्हें डेनिश भाषा में वाक्य संयोजन सही न कर पाने के कारण डांट पड़ती रहती थी। कई बार साफ़ न लिखने के कारण शोध पत्र रिजेक्ट हो जाते, इसलिए वह अपना शोध पत्र मां से बोलकर लिखवाते। उन्हें जीवन में कई कड़वे अनुभव हुए पर वह हताश नहीं हुए और अनुभवों से सीखने की कोशिश अपनी जारी रखी। अंततः वह एक महान वैज्ञानिक बनने में सफल हुए।

स्वयं का निर्णय महत्वपूर्ण 

Microsoft (माइक्रोसॉफ्ट) दुनिया की जानी-मानी टेक कंपनी हैंयही वो कंपनी हैं जिसके दम पर बिल गेट्स (Bill Gates) दुनिया का सबसे अमीर आदमी बन गये 1973 में गेट्स हार्वड युनिवर्सिटी पढ़ाई करने तो पहुंचे लेकिन वो पढाई पूरी नहीं कर सके। क्योंकि उनका मन पढ़ने – लिखने से ज्यादा प्रोग्रामिंग में लगता था । लिहाजा उन्होंने सभी पहलुओं पर गहन चिन्तन किया और पढाई बीच में छोड़कर प्रोग्रामिंग करने लगे। वर्ष 1975 में बिल गेट ने पाल एलन के साथ विश्व की सबसे बड़ी साफ्टवेयर कम्पनी माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना की।

साफ्टवेयर कम्पनी बनाने का निर्णय उनका सही साबित हुआ मगर यह जरुरी नहीं कि आप जो भी निर्णय लेंगे , उनमें सौ प्रतिशत सफलता मिलेगी ही, लेकिन यह तय है कि जीवन के खट्टे- मीठे अनुभव बहुत कुछ सिखाते हैं खुद मैंने भी जीवन में कई निर्णय लिया जो कि गलत साबित हुए पर बहुत से निर्णय ऐसे भी थे जो सही थे और अपने इन्ही सही और गलत निर्णयों के अनुभव से मेरे सामने बहुत से नए रास्ते खुलते गए

रामायण में जब भगवान राम ने रावण का वध किया तो मरने से पहले उसने लक्ष्‍मण को कुछ बातें सिखाई थीं। ये ऐसी बाते हैं, जो आपके-हमारे लिए आज के संदर्भ में भी उतनी ही सटीक हैं जितनी कि उस समय के लिए थींमृत्यु – शैया पड़े रावण ने लक्ष्मण को उपदेश देते हुए कहा कि हमें अपने साथ ही दूसरों के अनुभव से भी सीख लेनी चाहिए। अत: दूसरों के अनुभव कड़वे हो या फिर सुखद जीवन में उनसे भी सीख लेनी चाहिए। अनुभवों की यही तो विशेषता है की कहीं से मिले उसे झपट लों वह आपके साथ जीवन के हर हालात में सर्वपक्षीय विकास करते हैं। बशर्ते अनुभवों से आप अपने जीवन की राह मुक्कमल करना चाहते हो।

इन्हें पढ़ना न भूले

समय का सदुपयोग पर निबंध
समय के महत्व पर निबंध
समय प्रबंधन का महत्व

इस प्रेरणादायी आर्टिकल के साथ हम चाहते है कि हमारे FacebookPage को भी पसंद करे | और हाँ यदि future posts सीधे अपने inbox में पाना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी free email subscription भी ले सकते है जो बिलकुल मुफ्त है |

Babita Singh
Hello everyone! I am Babita Singh. Welcome to my blog Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन मेरे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *