Bhashan Hindi Post

गणतंत्र दिवस पर भाषण – Republic Day Speech in Hindi

गणतंत्र दिवस पर शानदार भाषण – Speech on Republic Day (Gantantra Diwas) in Hindi

26 जनवरी ‘गणतंत्र दिवस’ पर भाषण -Hindi Speech on 26 January Republic Day (Gantantra Diwas Par Hindi Main Bhashan)

Republic Day 2020 Speech In Hindi
Republic Day 2020 Speech In Hindi

Republic Day 2020 Speech In Hindi – इस गणतन्त्र दिवस की 71 वीं वर्षगांठ में उपस्थित सभी गणमान्य अतिथि, अध्यापक, प्यारे छोटे- बड़े बच्चो और विद्यार्थियों को मेरा यानि बबिता सिंह का नमस्कार। गणतन्त्र दिवस की सालगिरह के इस खास मौके पर सर्वप्रथम मैं भारत देश के सभी क्रांतिकारियों को शत-शत नमन करती हूं और उन सभी वीर जवानों को भी नमन करती हूं जो हमारी और हमारे देश की सुरक्षा में अपनी जान की परवाह किए बगैर बॉर्डर पर तैनात हैं।

जैसा की आप देख रहें हैं कि स्वतंत्रता प्राप्ति के इतने सालों बाद 26 January 2020 में एक बार फिर से पूरा भारतवर्ष एक साथ एक मंच पर इस महान और गौरवशाली पर्व गणतंत्र दिवस के शुभ अवसर पर राष्ट्र को नमन करने के लिए एकत्रित हुआ हैं क्योंकि यह दिन हम सब के लिए केवल एक पर्व नहीं, बल्कि गौरव और शान है । यह दिवस हर भारतीय का अभिमान है ।

मेरे प्रिय युवा छात्र – छात्राओं आपको बताते हुए अत्यंत हर्ष हो रहा है कि स्वतंत्रता के महत्व को समझने के साथ – साथ लोगों की नैसर्गिक प्रतिभा के विकास के लिए शान्ति और सौहाद्रपूर्ण वातावरण उपलब्ध कराने के लिए देशभर में गणतंत्र दिवस 1950 से 26 जनवरी को मनाया जा रहा है । हर साल इसी मौके पर देश के लोगों में उत्साह, जोश और देशभक्ति की भावना देखते ही बनती है इस दिन को हमारे देश की आजादी में शहीद हुए क्रांतिकारियों को सलामी और याद करते हुए मनाते हैं।

इस दिन की अपनी एक गौरवमयी गाथा और महत्व है । दरअसल हमारे देश की सदियों की परतंत्रता की बेडियां तो वास्तव में 15 अगस्त, 1947 को टूटी और भारत अंग्रेजी शासन से मुक्त हुआ, लेकिन आजादी के बाद भी हम पूर्ण रूप से स्वतंत्र न थे क्योंकि हमारा कोई अपना संविधान न था । संविधान का अर्थ यह है कि अपने देश को चलाने, कानून व्यवस्था बनाए रखने और अपने देश को स्वतंत्र और लोकतांत्रिक बनाने के लिए तंत्रों का गठन करना था ।

ब्रिटिश हुकूमत से मुक्ति के बाद देश में लोकतंत्र स्थापित करने के लिए कैबिनेट मिशन की संस्तुतियों के आधार पर भारतीय संविधान का निर्माण करने वाली संविधान सभा का गठन जुलाई, 1946 ई० में किया गया । भारतीय संविधान लिखने वाली सभा में 299 सदस्य थे जिसके अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र प्रसाद थे, लेकिन इस विराट संविधान के असली भाग्य विधाता डा. भीमराव अम्बेडकर बनें, जिनकी अध्यक्षता में सात सदस्यों की ड्राफ्टिंग कमेटी को संविधान लिखने की प्रक्रिया को पूर्ण करने में ‘2 साल, 11 महीने और 18 दिन का समय लगा । और जब संविधान बनकर तैयार हो गया तो उसे सन 1950 की 26 जनवरी को इस देश में लागू किया गया, जो सत्य, सेवा, सहिष्णुता, उदारता, वीरता, त्याग जैसे दुर्लभ रत्नों से जड़ा है।

इस संविधान में सर्वोच्च संवैधानिक सत्ता के रूप में राष्ट्रपति का पद भी बनाया गया था जो स्वतंत्र भारत के संविधान के अनुसार भारत का सर्वोच्च शासक राष्ट्रपति के नाम से पुकारा जाने लगा एवं संविधान में भारत को सर्वप्रभुतासपन्न लोकतंत्रात्मक गणराज्य भी घोषित किया गया । इस प्रकार की शासन व्यवस्था से भारत संसार का सबसे बड़ा स्वतंत्र गणतंत्र राज्य बन गया । 

चूकी स्वतंत्रता के बाद भारत के ऐतिहासिक संविधान का निर्माण 26 जनवरी 1950 का दिन होने के कारण से इस दिन का महत्व और भी बढ़ गया और तब से इसके महत्व को सम्मानित करने और ऐतिहासिक स्वतंत्रता को याद करने के लिए प्रत्येक वर्ष इस दिन को ‘गणतंत्र दिवस’ के नाम से एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में बड़ी धूम – धाम से सारे देश में, विशेषत: राजधानी दिल्ली में मनाया जाने लगा।

इस दिन को हमारे देश के आत्मगौरव तथा सम्मान से भी जोड़ा जाता है। प्रसंगवश रवीन्द्रनाथ ठाकुर की एक उक्ति याद आती है, जो उन्होंने अपने देश के पूर्वजों की उपलब्धियों को रेखांकित करते हुए कही थी – मैं भारत को नमन करता हूं, इसलिए नहीं कि मैं भूगोल की मूर्ति पूजा का पक्षधर हूं, इसलिए भी नहीं कि मुझे इस धरती पर जन्म लेने का अवसर मिला, बल्कि इसलिए कि इस धरती ने अपने महान पुत्रों की दिव्य चेतना से निकले प्राणवंत शब्दों को आंधियों के दौर में भी संभालकर रखा।।” 

वास्तव में यह भारत के तीन महत्वपूर्ण ऐतिहासिक क्षणों में से एक मूल्यवान समय है। देश के तमाम लोगों ने इसके लिए काफी मेहनत की है; तभी हम दुनिया का सबसे बड़ा गणतंत्र बन पाए हैं। हमारा नाम इस भारतभूमि के साथ जुड़ा है। इसका सम्मान करना हर भारतीय नागरिक का फर्ज है।

ऐसे राष्ट्रीय पर्व सचमुच हमें याद दिलाते हैं कि हम सब विश्व के सबसे बड़े गणतंत्र देश में एक है; और स्वतंत्र है। भारत की इसी गणतंत्रता और और स्वतंत्रता का दीपक जलाए रखने के लिए हमारे बहादुर जवान स्वयं को बाती बनाकर साधना कर रहें है। यह दिन हम सब के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। आजादी के इस दिए में अपेक्षित तेल की कमी न होने पाए यह दायित्व हम नागरिकों का है क्योंकि महान हस्तियों द्वारा दिया गया आज के दिन भारत को नया और अपना संविधान के उद्देश्यों को पूरा करना हमारा कर्तव्य है।

स्वतंत्रता दिवस और गणतन्त्र दिवस इस देश के दो ऐसे प्रमुख राष्ट्रीय पर्व हैं जो पूरी तरह से वतन पर मर मिटने वाले वीरों को समर्पित हैं। इसलिए इस दिन विशेष रूप से वीरों के लिए कार्यक्रम, परेड और विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता हैं। इस दिन के कार्यक्रमों में देशभक्ति शायरी, देशभक्ति कविता, देशभक्ति गाने और वतन परस्ती पर भाषण, देशभक्ति सुविचार आदि के द्वारा हम अपने देशप्रेमी होने का इजहार करते है और इसी से तिरंगे के लिए त्याग और बलिदान की कामनाएँ भी उत्पन्न हो जाती है।

अपने देश के लिए प्रेम प्रकट करने का तरीका भले ही कई हो, पर आज भी हम सब एक है।  इस समारोह में एकत्रित होकर ‘गणतंत्र दिवस’ मनाने का हम सब का एकमात्र उद्देश्य देश के नागरिकों को स्वतंत्रता को सदैव बनाए रखने की प्रेरणा देना है ताकि देश में विभिन्नताओं में एकता, सहयोग, भाईचारे की भावना में वृद्धि हो सके ।

हम सब को यह राष्ट्रीय पर्व सम्पूर्ण स्वतंत्रता – प्राप्ति के लिए हुए; आंदोलन में किए गए संघर्षों और बलिदानों की भी याद दिलाता है और स्वतंत्रता हर मूल्य पर बनाए रखने की प्रेरणा देता है। यह दिवस हमारी राष्ट्रीय चेतना का प्रतीक है।

सच में बाबा साहेब ने संविधान के रूप में अपने देश की सभी जनता को एक ऐसी जबरदस्त ताकत दी है, जो हर तरह से भारत के नागरिकों को अपनी सरकार चुनकर शासन चलाने का अधिकार देती है तथा उन्हें मजबूर करती है कि बात चाहे हमारे निजी जीवन की हो या राष्ट्रजीवन की, स्व-अनुशासन का अमोघ अस्त्र हर दृष्टि से सकारात्मक परिणाम देता है। सही गलत का निर्णय लेने की समझ इसी से विकसित होती है। आपको बता दें कि भारतीय संविधान हाथ से लिखा गया था, जो आज भी संसद के पुस्तकालय में सुरक्षित है।

धन्यवाद
जय हिंद जय भारत
वंदे मातरम ।
। 

Related Post जरुर पढ़े 

देशभक्ति शायरी – देशभक्ति पर बेहतरीन नई शायरियाँ

देशभक्ति कविता – देश-प्रेम पर 5 बेहतरीन कविता

देशभक्ति सुविचार – Great Patriotic Quotes In Hindi

देशभक्ति नारे – देशभक्ति पर दिल छू लेने वाले जोशीले नारे

Loading...

गणतंत्र दिवस पर निबन्ध – 26 जनवरी पर विस्तृत निबंध

स्वतंत्रता सेनानी के प्रसिद्ध नारे : Freedom Fighters Slogans

अगर आपको गणतंत्र दिवस भाषण | Very Easy Bhashan / Speech on 26 January Republic Day in Hindi Language अच्छा लगा हो तो हमारे Facebook Page को जरुर like करे और  इस post को share करे । और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं ।

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

2 thoughts on “गणतंत्र दिवस पर भाषण – Republic Day Speech in Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *