Hindi Post विविध

कैसे लाये बोर्ड एग्जाम में अच्छे अंक – How to Get Good marks in Board Exam in Hindi

बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक लाने के सात बेहतरीन तरीके – How to Get Good marks in Board Exam in Hindi

How to Get Good marks in Board Exam in Hindi
How to Get Good marks in Board Exam in Hindi

Exam Me acche Number kaise laye – How to Get Good marks in Board Exam in Hindi  : इम्तहान अथवा परीक्षा भारतीय शिक्षा पद्धति में हर साल छात्र शिक्षा मूल्यांकन हेतु ली जाने वाली एक बहुत प्राचीन परम्परा है और इस परीक्षा को प्रत्येक छात्र को देना ही पड़ता हैं। इन परीक्षाओं में विद्यार्थी अपनी पूरी कोशिश करते हैं ताकि वे अधिक से अधिक अंक ला सकें। खासकर उन परीक्षाओं में जिनके नंबर अथवा मार्कशीट का सबसे अधिक महत्व है।

जी हाँ, स्टूडेंट्स मैं बात कर रही हूँ बोर्ड की परीक्षाओं (10वीं और 12वीं) की। इस परीक्षा को लेकर स्टूडेंट्स के भीतर अक्सर डर भी बैठा होता है क्योंकि ये हर विद्यार्थी के सुनहरे सपनों का द्वार होता है और इसके परिणाम पर ही उनका भविष्य निर्भर होता हैं। इसलिए हर विद्यार्थी चाहता है कि इस परीक्षा में उसे अधिकतम अंक मिल सकें। इसके लिए वह हर संभव प्रयास करता है। दिन रात लगातार अध्ययन, गेस पेपर, मॉडल पेपर आदि जितने भी उपलब्ध साधन हैं उनका प्रयोग करना तक वे नहीं छोड़ता ।

लेकिन फिर भी जब परीक्षा परिणाम आता है तो अधिकांश परीक्षार्थियों को ये शिकायत रहती है कि उन्होंने सभी प्रश्नों के सही उत्तर दिए थे परन्तु उस तुलना में उसे काफी कम अंक मिले। जबकि ऐसी बात नहीं है। परीक्षक उत्तर पुस्तिका में लिखे पश्नोत्तर के हिसाब से ही अंक देते हैं न कम न ज्यादा। हाँ कभी – कभी किसी परीक्षक से अपवाद स्वरुप मानवीय भूल हो जाती है परन्तु इसकी सम्भावना भी नगण्य ही होती है।

हालांकि बोर्ड की परीक्षाएं (10वीं और 12वीं) शुरू होने में काफी कम दिन शेष रह गये हैं। परीक्षा में अधिकतम अंक कैसे लाए बेशक इस समय हर विद्यार्थी को यही चिंता सता रही होगी पर घबराने की आवश्यकता कतई नहीं है। अच्छे अंक लाना इतना कठिन भी नहीं है अगर सही नीति और सकारात्मक भावना के साथ प्रयास करें तो न सिर्फ आपकी घबराहट दूर होगी बल्कि निश्चित ही अच्छे अंक से टॉप कर सकेंगे । 

तो आइये जानते है कि वो कौन से सात नियम अथवा तरीका है जो आप को परीक्षा में अच्छे अंक या टॉप कराने मदद कर सकते है। यह परीक्षा की तैयारी के टिप्स 12वीं के छात्रों के लिए भी समान रूप से उपयोगी है।

10वीं और 12वीं की परीक्षाओं में अच्छे अंक लाने / टॉप करने के सबसे बढ़िया सात नियम – How to Get Good marks in Board Exam in Hindi  

बोर्ड परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाने के सात बेहतरीन उपाय इस प्रकार है – Seven Best Ways to How to Get Good marks in Board Exam are as Follows –

सबसे पहले तो बोर्ड एग्जाम की तैयारी कर रहा हर छात्र और छात्रा ये भलीभांति जान ले, कि 10वीं के विभिन्न विषयों की तैयारी अलग – अलग नीति के तहत होनी चाहिए। इसकी शुरुआत हम गणित से करते हैं। यह एक ऐसा विषय है जिसमें शत-प्रतिशत अंक प्राप्त किया जा सकता है।

गणित (mathematics) पेपर की तैयारी

गणित (mathematics) पर आधारित प्रश्नों (questions)को हल करते समय सूत्रों (formulas) की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण होती है – खासकर क्षेत्रमिति (geometry), बीजगणित (algebra), और त्रिकोणमिति (trigonometry) से सम्बन्धित प्रश्नों में। इनसे संबंधित सूत्र (formula) अधिकाधिक अंक दिलवा सकते हैं क्योंकि इन क्षेत्रों से पूछे गए अधिकांश प्रश्नों (questions) को सीधे ही सूत्र (formula)के सहारे हल किया जा सकता है।

Loading...

इसलिए छात्रों को इन गणितीय सूत्रों (mathematical formulas) को जरुर कंठस्थ कर लेना चाहिए। इसके विपरीत लाभ-हानि (profit-loss), बट्टा, प्रतिशत (percentage), शेयर-लाभांश (share-dividend), साधारण व चक्रवृद्धि ब्याज जैसे व्यावसायिक गणित से संबंधित सवालों (questions) को हल करने में नियमित अभ्यास ज्यादा सहायक होता है। 

कुछ प्रश्न ऐसे पूछे जाते हैं जिनकी प्रकृति बड़ी जटिल होती है। जैसे किसी वर्ग में रखे गए वृत्त (circle) का क्षेत्रफल निकालना या फिर दिये गए मूलधन का निश्चित समय में साधारण ब्याज और चक्रवृद्धि ब्याज का अंतर दिया हुआ हो तो ब्याज दर निकालना। ऐसे प्रश्नों (questions) को हल करते समय एक बात का ध्यान रखना चाहिए कि इसके उत्तर (answer) के कितने चरण (steps) हो सकते हैं। यह बात हमेशा ध्यान में रखना चाहिए कि गणित के प्रश्नों में अंक किसी तरह उत्तर निकालने से नहीं बल्कि हर सही स्टेप पर मिलता है। अत: सवाल के जबाब की प्रक्रिया सही होनी चाहिए।

विज्ञान के पेपर की तैयारी –

गणित की भांति विज्ञान की सही नीति से तैयारी करने पर अच्छे अंक प्राप्त किए जा सकते हैं। चूंकि परीक्षाएं नजदीक हैं इसलिए रसायन शास्त्र (chemistry) और भौतिकी (physics) में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए सामान्य सिद्धांतों व दोनों ही विषयों के महत्वपूर्ण तथा अनिवार्य सूत्रों को चिन्हित कर उसे बार-बार पढ़ना लाभदायक साबित हो सकता है। खास कर रसायन शास्त्र (chemistry) में केमिकल बॉडिंग और महत्वपूर्ण केमिकल रिएक्शन को याद कर लेना चाहिए।

इसके अलावा इस कक्षा के विद्यार्थियों को मेरी एक सलाह है कि वे भौतिक (physics) व रसायनशास्त्र (chemistry) दोनों प्रश्नपत्रों को हल करते समय न्यूमेरिकल प्रश्नों को सबसे पहले हल करें क्योंकि इसमें यथोचित 100% अंक लाया जा सकता है। जीव विज्ञान (biology) के पिछले दो – तीन सालों में पूछे प्रश्नों के आधार पर संभावित प्रश्नों की प्रकृति निर्धारित कर उस पर विशेष ध्यान देना चाहिए।

भाषा संबंधी विषयों की तैयारी –

भाषा कला संकाय का महत्वपूर्ण विषय है इसलिए इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती लेकिन छात्रों को सबसे ज्यादा शिकायत इसी विषय से होती हैं ।

भाषा के पेपर में आमतौर पर कहानियां, कविताएँ, जीवनी, नाटक, उपन्यास आदि मुख्य होते हैं । इसके साथ ही गद्य और पद्य से व्याख्या करने के सवाल भी परीक्षा में पूछे जाते है । अक्सर छात्र गद्य और पद्य की बारीकी को नहीं समझ पाते इसलिए जरुरी है रेगुलर क्लास अटेंड करें । साथ ही भाषा संबंधी विषयों, हिन्दी या संस्कृत व अंग्रेजी में अच्छे अंक प्राप्त करने हेतु पिछले साल पूछे गए प्रश्नों के आधार पर सेलेक्टिव हुआ जा सकता है। इन विषयों के प्रश्नों के उत्तर लिखते समय भाषाई कसावट पर जोर देना चाहिए खास कर दिए गए उद्धरणों का भावार्थ लिखने या विवेचना करते समय व्याकरण वाले खंड पर विशेष ध्यान देना चाहिए क्योंकि यह हाईस्कोरिंग होता है।

सामान्य विज्ञान के पेपर की तैयारी –

सामान्य विज्ञान के अंतर्गत चार विषय हैं इतिहास (history), नागरिक शास्त्र (civics), अर्थशास्त्र (economics) व भूगोल (geography) । खास बात ये हैं कि इन विषयों की प्रकृति विवेचनात्मक होती है और भाषा के बाद सबसे ज्यादा शिकायत छात्रों को इसी वर्ग के प्रति होती है और उन्हें कहते पाया जाता है इसमें नंबर अच्छे नहीं आते ।

इन विषयों में परीक्षा में पहले पूरे पाठ्यक्रम विषय का रिवीजन कठिन प्रतीत होता है। इसलिए मुख्य बिंदुओं को नोट कर ले और उसे बार – बार दुहराएं। जैसे अगर 1857 के विद्रोह के कारणों के बारे में पूछा जाए और आपको मालूम हो, कि इसके पीछे कृषक असंतोष, वेतन विसंगति, चर्बी वाला मामला था तो उत्तर लिखते समय इन बिंदुओं पर जरुर विश्लेषण करें। क्योंकि कई बार स्टूडेंट्स जो उत्तर लिखते हैं तो उसमे तारतम्य नहीं होता । इससे भी अंक कट जाते है ।

अधिकतम अंक प्राप्त करने के लिए मानचित्र अध्ययन पर भी जरुर ध्यान दें। दिए गए मानचित्र पर स्थानों को दर्शाना और मानचित्र पर नदियों को पहचानने का अभ्यास किया जाए तो उसकी मदद से आसपास के स्थानों को सही – सही चिन्हित किया जा सकता है। कई बार परीक्षार्थी मानचित्र बनाना छोड़ देते हैं या फिर इसमें काफी समय लगाते है । दोनों ही प्रवृति गलत है । मानचित्र बनाना बेहद जरूरी है परन्तु इसकी सुंदरता के अंक नहीं मिलते है बल्कि स्कैच एव लवलिंग के अंक मिलते है ।

परीक्षा में टू द पॉइंट्सलिखे लेकिन दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों के मामले में ऐसा न करे –

प्रश्न में जो पूछा गया है केवल उसी का वर्णन करें । परीक्षक आमतौर पर ‘टू द पॉइंट्स’ लिखे उत्तर को ही पसंद करता है। इधर – उधर की बाते उन्हें कत्तई प्रभावित नहीं करती हैं। लेकिन दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों के मामले में ऐसा न करें । कुछ परीक्षार्थी यह मानकर चलते हैं कि परीक्षक को यह पता होगा । ये सोचकर उत्तर बिल्कुल कम से कम शब्दों में देते हैं । लेकिन दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों के उत्तर में जब तक परीक्षार्थी पूरा जबाब नहीं देता एवं खंडो में बाटकर जबाब नहीं देता उसे पूरे अंक नहीं मिलते।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्नों के जबाब देने में आपसे कोई चूक न हो, इसलिए आप ये मानकर चलिए कि परीक्षक को कुछ नहीं आता और उन्हें वह सारी सूचनाएं उपलब्ध करानी है जो उनसे चाही गई है ।

पढने के ढंग या तरीके –

पढ़ने के ढंग का भी अंक स्कोर करने में महत्वपूर्ण योगदान होता है और इसका सबसे महत्वपूर्ण पहलू है नियमित पढाई। एक मेधावी छात्र भी नियमित पढाई के बिना अधिकतम अंक प्राप्त नहीं कर सकता।  वही सामान्य बुद्धि का छात्र भी अगर हर रोज मेहनत करता है तो वह अधिकतम अंक पाने का हकदार बन जाता है क्योंकि उसकी बुद्धि प्रखर होती जाती है।

प्रश्नोत्तर साफ-सुथरा लिखना –

कई बार परीक्षक के पास ऐसी कॉपी आती है कि परीक्षक उसे पढ़ ही नहीं पाते। जिससे जबाब सही होने के बावजूद भी परीक्षार्थी को पूरे अंक नहीं मिलते। इसलिए छात्रों को साफ सुथरा लिखना चाहिये। इतना ही नहीं, उत्तर पुस्तिका (answer sheet) में उत्तर लिखकर काटने की प्रवृत्ति भी ठीक नहीं। इससे परीक्षक पर बुरा असर पड़ता है और वह समझता है कि छात्र ने नकल की है। इसलिए आपको चाहिए कि आप सोच समझकर ही उत्तर पुस्तिका (answer sheet) में उत्तर लिखे और प्रश्नोत्तर हमेशा क्रमवार संख्या में दें। यदि बीच के प्रश्न का उत्तर नहीं मालूम हो तो उस जगह को खाली छोड़ कर आगे बढ़ जाएं एवं बाद में समय मिलने पर उसका उत्तर लिख सकते हैं।

अभी आपके के पास समय है। ठोस व निश्चित ज्ञान के लिए उचित पुस्तकों से मन लगाकर पढाई करें। यदि आप उपर्युक्त बातों को ध्यान में रखकर अपने एग्जाम की तैयारी करेंगें तो निश्चित तौर पर अच्छे अंक से उत्तीर्ण होंगे।

Also Read : परीक्षा की तैयारी के लिए बेस्ट Study Tips

और पढ़े  : परीक्षा की तैयारी करें ऐसे, सफलता आपके कदम अवश्य चूमेगी 

इसे जरुर पढ़े : Board परीक्षा के लिए Perfect Time Table

Also Read : कम समय में बोर्ड परीक्षा की तैयारी कैसे करे

How to Get Good marks in Board Exam in Hindi – परीक्षा में अच्छे अंक लाने के सबसे अच्छे सात तरीके के इस प्रेरणादायी लेख के साथ हम चाहते है कि हमारे  Facebook Page को भी पसंद करे | और हाँ यदि future posts सीधे अपने inbox में पाना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी  email subscription भी ले सकते है जो बिलकुल मुफ्त है |

Loading...
Copy

CLICK HERE : Amazon Today's Deal of the Day - जल्दी करे मौका कहीं छूट न जाए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *