Hindi Post Kavita

पर्यावरण संरक्षण पर कविता – Environment Poem in Hindi

पर्यावरण पर दो उत्कृष्ट पर कविता

Nature Poetry In Hindi - Environment Poem
Nature Poetry In Hindi – Environment Poem

पर्यावरण संरक्षण पर कविता संकल्प पर्यावरण संरक्षण का” – Hindi Poem on ‘Sankalp Paryavaran Sanrakshan Ka’ 

रत्न प्रसविनी हैं वसुधा,

यह हमको सब कुछ देती है |

माँ जैसी ममता को देकर,

अपने बच्चों को सेती है ||

भौतिकवादी जीवन में,

हमनें जगती को भुला दिया |

कर रहें प्रकृति से छेड़छाड़,

हम ने सबको है रुला दिया ||

हो गयी प्रदूषित वायु आज,

हम स्वच्छ हवा को तरस रहे |

वृक्षों के कटने के कारण,

अब बादल भी न बरस रहे ||

वृक्ष काट – काटकर हम ने,

माँ धरती को विरान कर डाला |

बनते अपने में होशियार,

अपने ही घर में डाका डाला ||

बहुत हो गया बन्द करो अब,

धरती पर अत्याचारों को |

संस्कृति का सम्मान न करते,

भूले शिष्टाचार को ||

Loading...

आओ हम सब संकल्प ले,

धरती को हरा – भरा बनायेगे |

वृक्षारोपण का पुनीत कार्य कर,

पर्यावरण को शुद्ध बनायेगे ||

आगे आने वाली पीढ़ी को,

रोगों से मुक्ति करेगे हम |

दे शुद्ध भोजन, जल, वायु आदि,

धरती को स्वर्ग बनायेगे ||

जन – जन को करके जागरूक,

जन – जन  से वृक्ष लगवायेगे |

चला – चला अभियान यही,

बसुधा को हरा बनायेगे ||

जब देखेगे हरी भरी जगती को,

तब पूर्वज भी खुश हो जायेंगे |

कभी कभी ही नहीं सदा हम,

पर्यावरण दिवस मनायेगे ||

हरे भरे खूब पेड़ लगाओ,

धरती का सौंदर्य बढाओ |

एक बरस में एक बार ना,

5 जून हर रोज मनाओ ||

****

पर्यावरण पर एक नम्र निवेदन कविता / पोएम – Environment Poem in Hindi

Paryavaran par kavita in hindi
Paryavaran par kavita in hindi

न नहर पाटो, न तालाब पाटो,

बस जीवन के खातिर न वृक्ष काटो।

ताल तलैया जल भर लेते,

प्यासों की प्यास, स्वयं हर लेते।

सुधा सम नीर अमित बांटो,

न नहर पाटो, न तालाब पाटो,

स्नान करते राम रहीम रमेश,

रजनी भी गोते लगाये।

क्षय करे जो भी इन्हें, तुम उन सब को डाटो,

न नहर पाटो, न तालाब पाटो,

नहर का पानी बड़ी दूर तक जाये,

गेहूं चना और धान उगाये।

फिर गेंहू से सरसों अलग छाटों,

न नहर पाटो, न तालाब पाटो,

फल और फूल वृक्ष हमें देते,

औषधियों से रोग हर लेते।

लाख कुल मुदित हँसे,

न नहर पाटो, न तालाब पाटो,

स्वच्छ हवा हम इनसे पाते,

जीवन जीने योग्य बनाते

दूर होवे प्रदूषण जो करे आटो,

न नहर पाटो, न तालाब पाटो |

*********************************************************************************************

प्रकृति अथवा पर्यावरण पर गर इस तरह के और भी लेख पढने के इच्छुक हैं तो नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करके आप पढ़ सकते हैं।

1- पर्यावरण पर अनमोल वचन एवं सुविचार Click Here

2- पर्यावरण पर जोरदार स्लोगन Click Here

3- पर्यावरण प्रदूषण पर निबन्ध Click Here

4-  जल पर सुविचार, स्लोगन और कविता Click Here

5-  ग्लोबल वार्मिंग एक वास्तविक समस्या Click Here

 6- पर्यावरण संरक्षण पर दो उत्कृष्ट कविता Click Here

 7- जलवायु परिवर्तन पर लेख Click Here

 8- पर्यावरण पर निबन्ध Click Here

9 – प्रकृति पर सुन्दर सुविचार Click Here

Loading...

यह पर्यावरण पर कविता (Best Poem on Environment in Hindi) आप के लिए अवश्य उपयोगी साबित हुआ होगा। इसी उम्मीद के साथ दोस्तों हमारे ब्लॉग पर विजिट करने के लिए आपका बहुत – बहुत धन्यवाद। परन्तु छोड़ने से पहले और भी दिल छू लेने पर्यावरण पर उम्दा लेख पढ़ने के लिए हमारा यह Facebook Page  पेज अवश्य लाइक करे! और हाँ यदि future posts सीधे अपने inbox में पाना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी email subscription भी ले सकते है जो बिलकुल मुफ्त है । अगर आप टेक केयर की तरफ से रोजाना प्रेरणादायक विचार अपने व्हाट्सप्प पर प्राप्त करना चाहते है तो ख्याल रखे के साथ बने रहिये।

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

26 thoughts on “पर्यावरण संरक्षण पर कविता – Environment Poem in Hindi

  1. बहुत सुंदर कविताएँ हैं। पर्यावरण सुरक्षा के लिए आपकी चिंता सराहनीय है।

  2. The article is very easy to understand, detailed and meticulous! I had a lot of harvest after watching this article from you! I find it interesting, your poems gave me a new perspective

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *