Bhashan Hindi Post Nibandh Nibandh Aur Bhashan

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध – Environmental Pollution Essay in Hindi

पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध – Environmental Pollution Essay in Hindi

Environmental Pollution in Hindi
Environmental Pollution in Hindi

पर्यावरणीय प्रदूषण क्या है पर्यावरण प्रदूषण का अर्थ

Environmental Pollution Essay in Hindi: कुदरत ने हरे-भरे पर्यावरण का साथ हमें आशीर्वाद स्वरूप दिया है, जो हमारे जीवन के लिए अत्यंत आवश्यक चीजों में से एक है। यदि हम यह आशीर्वाद खो देंगे तो हम एक स्वथ्य जीवन खो देंगे। पर बीते कुछ दशक की बात करें तो पर्यावरण की स्थिति बेहद नाजुक हुई है। विकास के दौड़ में हमनें पर्यावरण की अनदेखी की है। इसे काफी नुकसान पहुंचाया है।

परिणाम स्वरूप ग्लोबलवार्मिंग, एसिड बारिश, ओजोन परत की कमी, वायु और जल का प्रदूषित होना आदि एक बड़ा संकट बन कर सामने आया है। हालही में प्रदूषण के जो वर्तमान प्रभाव परिलक्षित हुए हैं उससे घर से बाहर निकलने में भी खतरा नजर आ रहा है। काफी सारे लोग सांस की बीमारी से ग्रसित हो रहे हैं। छोटे-बड़े, सभी उम्र के लोगों पर इस दमघोंटू प्रदूषण का दुष्प्रभाव दिखाई पड़ रहा है। 

अब आशंका व्यक्त की जाने लगी है कि हमारा पर्यावरण के प्रति गर यही रवैया रहा तो मौसम में और भी भारी परिवर्तन हो सकता है तथा पेड़ पौधे जहरीले हो सकते है। यहाँ तक आशंका व्यक्त की जा रही है कि वायुमंडल के तापमान में इतनी वृद्धि हो जाएगी कि उसकी गर्मी से हिमशिखर भी पिघलने लगेंगे। इस कारण समुद्र का जल स्तर इतना बढ़ जाएगा कि उसके किनारे के नगर एवं द्वीप डूब जायेंगे।  इसके कारण कई देशो का अस्तित्व समाप्त हो सकता है। इतना ही नहीं यदि ओजोन पर्त नष्ट हो गई तो सूर्य की पराबैंगनी किरणें सीधी धरती पर पहुँचेंगी, जिससे खाद्य पदार्थ, वनस्पतियाँ तथा शरीर विषयुक्त हो जायेगा। मानव जाति भयंकर महामारी की चपेट में आकर नष्ट हो सकती है।

वर्तमान समय में विभिन्न प्रकार के रोगों का कारण खोजने पर इनके मूल में पर्यावरण में पैदा हो रहे निम्नलिखित विघटन एवं प्रदूषण के मुख्य रूप सामने आये हैं –

(1) जल प्रदूषण (Water Pollution in Hindi)

जल प्रदूषण, से अभिप्राय जल निकायों जैसे कि, झीलोंं, नदियों, समुद्रों और भूजल के जल के संदूषित होने से है। जल प्रदूषण, इन जल निकायों के पादपों और जीवों को प्रभावित करता है और सर्वदा यह प्रभाव न सिर्फ इन जीवों या पादपों के लिए अपितु संपूर्ण जैविक तंत्र के लिए विनाशकारी होता है।

जल प्रदूषण का मुख्य कारण मानव या जानवरों की जैविक या फिर औद्योगिक क्रियाओं के फलस्वरूप पैदा हुए प्रदूषकों को बिना किसी समुचित उपचार के सीधे जल धारायों में विसर्जित कर दिया जाना है।

(2) वायु प्रदूषण (Air Pollution in Hindi)

वायु प्रदूषण रसायनों, सूक्ष्म पदार्थ, या जैविक पदार्थ के वातावरण में, मानव की भूमिका है, जो मानव को या अन्य जीव जंतुओं को या पर्यावरण को नुकसान पहुँचाता है।

वायु प्रदूषण के कारण मौतें और श्वास रोग होते हैं। वायु प्रदूषण की पहचान ज्यादातर प्रमुख स्थायी स्रोतों से की जाती है, पर उत्सर्जन का सबसे बड़ा स्रोत मोबाइल, ऑटोमोबाइल्स है। कार्बन डाइऑक्साइड जैसी गैसें, जो ग्लोबल वार्मिंग के लिए सहायक है, को हाल ही में प्राप्त मान्यता के रूप में मौसम वैज्ञानिक प्रदूषक के रूप में जानते हैं, जबकि वे जानते हैं, कि कार्बन -डाइऑक्साइड प्रकाश संश्लेषण के द्वारा हम को जीवन प्रदान करता है। इसके अभाव में पृथ्वी इतनी ठंडी हो जाती कि इस पर रहना असंभव होता। 

(३) मृदा प्रदूषण (Soil Pollution)

मृदा प्रदूषण मृदा में होने वाले प्रदूषण को कहते हैं। यह मुख्यतः कृषि में अत्यधिक कीटनाशक का उपयोग करने या ऐसे पदार्थ जिसे मृदा में नहीं होना चाहिए, उसके मिलने पर होता है। जिससे मृदा की उपज क्षमता में भी बहुत प्रभाव पड़ता है। इसी के साथ उससे जल प्रदूषण भी हो जाता है।

(4) ध्वनि प्रदूषण (Sound Pollution)

ध्वनि प्रदूषण या अत्यधिक शोर किसी भी प्रकार के अनुपयोगी ध्वनियों को कहते हैं, जिससे मानव और जीव जन्तुओं को परेशानी होती है। इसमें यातायात के दौरान उत्पन्न होने वाला शोर मुख्य कारण है। जनसंख्या और विकास के साथ ही यातायात और वाहनों की संख्या में भी वृद्धि होती है और जिसके कारण यातायात के दौरान होने वाला ध्वनि प्रदूषण भी बढ़ने लगता है। अत्यधिक शोर से सुनने की शक्ति भी चले जाने का खतरा होता है।

स्पष्ट है, “हवा, पानी और मिट्टी में दिन-रात घुलते जा रहे प्रदूषण के जहर ने आज विश्व को उस मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया है, जहाँ से आगे तबाही के सिवा कुछ नहीं है।” यदि इस समस्या का निराकरण समय रहते न किया गया, तो एक दिन ऐसा आयेगा, जब प्रदूषण की समस्या सम्पूर्ण मानव जाति को निगल जायेगी। 

( परीक्षा उपयोगी और महत्वपूर्ण निबंध पढ़ने के लिए यहाँ click करे )

We are thankful to Upma ji for sending such useful essay on Environmental Pollution. Upma ji is a software engineer and currently working in TCS Lucknow office.

प्रकृति अथवा पर्यावरण पर गर इस तरह के और भी लेख पढने के इच्छुक हैं तो नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करके आप पढ़ सकते हैं।

जल पर सुविचार, स्लोगन और कविता

ग्लोबल वार्मिंग एक वास्तविक समस्या

पर्यावरण संरक्षण पर दो उत्कृष्ट कविता

जलवायु परिवर्तन पर लेख

पर्यावरण पर निबन्ध

Loading...

पर्यावरण प्रदूषण एस्से इन हिंदी -Environmental Pollution Essay in Hindi के इस प्रेरणादायी लेख के साथ हम चाहते है कि हमारे  Facebook Page को भी पसंद करे | और हाँ यदि future posts सीधे अपने inbox में पाना चाहते है तो इसके लिए आप हमारी email subscription भी ले सकते है जो बिलकुल मुफ्त है |

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

6 thoughts on “पर्यावरण प्रदूषण पर निबंध – Environmental Pollution Essay in Hindi

  1. बहुत ही अच्छा लगा environment pollution पर आपका लेख पढ़ कर। वाकाई ज्ञानवर्धक है

Leave a Reply

Your email address will not be published.