Morning Poem in Hindi
Hindi Post Kavita

नई सुबह की कविता : एक नए दिन की शुरुआत | Morning Poem in Hindi

प्रत्येक नई सुप्रभात की मंगल कामनायें  कविता | Morning Poem in Hindi

Morning Poem in Hindi
Morning Poem in Hindi

हर सुबह जीवन का वह अवसर है जब हम उषा के अभिनन्दन के साथ खुद को नए अंदाज में संतुलित रूप से सोचने का आमंत्रण देते है और दूसरों के आगे बढ़ने की इस शुभ बेला में मंगल कामना करते है क्योंकि प्रात:काल शुरू तब होता है जब हममें नई दृष्टि होती है और ये दृष्टि शुभेक्षा से आती है | यहाँ पर उपलब्ध कविता में की गयी असीम शुभेक्षा की कामना ही सुबह की सबसे बड़ी उपलब्धि है |

नये सुबह की मंगल कामनायें |

चिड़ियों के शोर को,

अमुआ के मौर को

Loading...

कोयल की कूक को,

यादों की हुक को

नये सुबह की मंगल कामनायें |

बिंदिया और चोटी को,

प्यारी सी बेटी को,

पगड़ी के हूनरको,

चोली और चूनर को,

नये सुबह की मंगल कामनायें |

पॉवों की धूल को,

हर नन्ही फूल को,

राग रंग मस्ती को,

गरीब की हस्ती को,

नये सुबह की मंगल कामनायें |

गर्म सर्द हवाओं को,

दर्द और दुवाओं को,

चूल्हे की हस्ती को,

भूख की मस्ती को,

नये सुबह की मंगल कामनायें |

चक्की और चरखे को,

हाथ के करघे को,

हल और कुदाली को,

प्यार और गाली को,

Loading...

नये सुबह की मंगल कामनायें |

बच्चों और फूलों को,

हंसी और शूलों को,

तैरते सपनों को,

पराये और अपनों को,

नये सुबह की मंगल कामनायें |

निवदेन Friends अगर आपको ‘ Morning Poem in Hindi अच्छी लगी  हो तो हमारे Facebook Page को जरुर like करे और  इस post को share करे | और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Loading...
Copy

CLICK HERE : Amazon Today's Deal of the Day - जल्दी करे मौका कहीं छूट न जाए

One thought on “नई सुबह की कविता : एक नए दिन की शुरुआत | Morning Poem in Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *