Hindi Kahani Hindi Post Hindi Stories

6 अच्छी लघु प्रेरक प्रसंग कहानियों का संग्रह (भाग 2) : Collection of Most Inspirational With Moral Hindi Short Stories

प्रेरक प्रसंग कहानियों का संग्रह : Collection of Inspirational With Moral Hindi Short Stories

Short Stories With Moral in Hindi
Short Stories With Moral in Hindi

********************************************************************************************

कहानी 1 – ‘उत्तराधिकारी

********************************************************************************************

एक राजा वृद्ध हो गये उन्होंने अपने तीन पुत्रों में से एक को उत्तराधिकारी चुनने हेतु परीक्षा लेने का विचार किया | तीनों पुत्रों को बुलाकर एक – एक मुद्रा दी और कहा कि इससे अपने कमरे को पूरा भरना है |

पहले पुत्र ने उस धन से अपना कमरा कचरे से भर दिया | दूसरे पुत्र ने उस धन से अपना कमरा घास फूंस से भरवा दिया | तीसरे पुत्र ने अपने कमरे में उस धनराशि से एक दीपक जलाया तो पूरा कमरा प्रकाश से भर गया | अगरबत्ती जलाई तो पूरा कमरा सुगंध से भर गया और उस कमरे में वादद्यन्त्र बजे तो कमरा संगीत के स्वरों से भर गया |

Loading...

राजा ने तीसरे पुत्र को उत्तराधिकारी घोषित कर दिया जिसने अपने कमरे को प्रकाश, सुगंध और संगीत से भर दिया था |

कहानी से सीख Moral of Story :  इस कहानी से सीख मिलती है कि श्रेष्ठ मनुष्य वे है जो आयु मुद्रा का सदुपयोग करके अपने जीवन रूपी कक्ष को प्रेम श्रद्दां और आनंद से भर देते है |

*********************************************************************************************

कहानी 2 – ‘भगवान् पर भरोसा

*********************************************************************************************

एक दिन पृथ्वी, हवा और वर्षा एक बड़ी चट्टान से बातें कर रहे थे | चट्टान ने कहा, ‘तूम सब एक साथ मिल जाओ, तब भी तुम मेरा मुकाबला नहीं कर सकती |’

पृथ्वी और हवा दोनों इस बात पर सहमत थी कि चट्टान बहुत मजबूत है, पर वर्षा इस बात पर सहमत नहीं थी कि वह चट्टान का मुकाबला नहीं कर सकती | उसने कहा, ‘तुम मजबूत हो, यह मैं जानती हूँ, लेकिन मैं कमजोर नहीं |’

इस बात को सुनकर पृथ्वी, हवा और चट्टान हँसने लगे | तब वर्षा ने कहा, देखो, मैं क्या कर सकती हूँ | यह कहकर वह तेज गति से बरसने लगी | कई दिन बरसने पर चट्टान को कुछ नहीं हुआ | कुछ समय बाद पृथ्वी और हवा पुन: हँसने लगी | प्रतिउत्तर में वर्षा ने कहा, ‘थोड़ा धैर्य रखो बहन |’

वर्षा चट्टान पर लगातार दो वर्षों तक बरसती रही | उसके कुछ समय बाद हवा और पृथ्वी चट्टान से मिलने पहुंची | देखा, चट्टान बीच से कट गयी है | तब वर्षा ने कहा, “यह छेद चट्टान को हिंसक रूप से काटकर नहीं बनाया गया, बल्कि यह चट्टान पर मेरे लगातार, नियमित रूप से गिरने से बना है |”

कथा मर्म Moral of Story :  इस शिक्षाप्रद कहानी से सीख मिलती है कि कठिन से कठिन लक्ष्य पाने के लिए अभ्यास की निरंतरता आवश्यक है |

*********************************************************************************************

 कहानी 3 – ‘अनसुनी बुराई

********************************************************************************************

एक बार स्वामी विवेकानंद रेल से कही जा रहे थे | वह जिस डिब्बे में सफर कर रहे थे, उसी डिब्बे में कुछ अंग्रेज यात्री भी थे | उन अंग्रेजो को साधुओं से बहुत चिढ़ थी | वे साधुओं की भर – पेट निंदा कर रहे थे | साथ वाले साधु यात्री को भी गाली दे रहे थे | उनकी सोच थी कि चूँकि साधू अंग्रेजी नहीं जानते, इसलिए उन अंग्रेजों की बातों को नहीं समझ रहे होंगे | इसलिए उन अंग्रेजो ने आपसी बातचीत में साधुओं को कई बार भला – बुरा कहा | हालांकि उन दिनों की हकीकत भी थी कि अंग्रेजी जानने वाले साधु होते भी नहीं थे |

रास्ते में एक बड़ा स्टेशन आया | उस स्टेशन पर विवेकानंद के स्वागत में हजारों लोग उपस्थित थे, जिनमे विद्वान् एवं अधिकारी भी थे | यहाँ उपस्थित लोगों को सम्बोधित करने के बाद अंग्रेजी में पूछे गए प्रश्नों के उत्तर स्वामीजी अंग्रेजी में ही दे रहे थे | इतनी अच्छी अंग्रेजी बोलते देखकर उन अंग्रेज यात्रियों को सांप सूंघ गया , जो रेल में उनकी बुराई कर रहे थे | अवसर मिलने पर वे विवेकानंद के पास आये और उनसे नम्रतापूर्वक पूछा – आपने हम लोगों की बात सुनी | आपने बुरा माना होगा ?

स्वामीजी ने सहज शालीनता से कहा – ” मेरा मस्तिष्क अपने ही कार्यों में इतना अधिक व्यस्त था कि आप लोगों की बात सुनी भी पर उन पर ध्यान देने और उनका बुरा मानने का अवसर ही नहीं मिला |” स्वामीजी की यह जवाब सुनकर अंग्रेजो का सिर शर्म से झुक गया और उन्होंने चरणों में झुककर उनकी शिष्यता स्वीकार कर ली |

कहानी से सीख Moral of Story on :  इस शिक्षाप्रद कहानी से सीख मिलती है कि हमें सदैव अपने लक्ष्य पर फोकस करना चाहिए | 

*********************************************************************************************

Also Read : अच्छी लघु प्रेरक प्रसंग कहानियों का संग्रह (भाग 1)

*********************************************************************************************

कहानी 4 – ‘कर्तव्य

*********************************************************************************************

एक बार स्वामी विवेकानंद रेल में यात्रा कर रहे थे। वह जिस कोच में बैठे थे, उसी कोच में एक महिला भी अपने बच्चे के साथ यात्रा कर रही थी। एक स्टेशन पर दो अंग्रेज अफसर उस कोच में चढ़े और महिला के सामने वाली सीट पर आकर बैठ गए। कुछ देर बाद दोनों अंग्रेज अफसर उस महिला पर अभद्र टिप्पणियां करने लगे। वह महिला अंग्रेजी नहीं समझती थी तो चुप रही। उन दिनों भारत अंग्रेजों का गुलाम था। अंग्रेजों का भारतीयों के प्रति दुर्व्यवहार आम बात थी।

धीरे-धीरे दोनों अंग्रेज महिला को परेशान करने पर उतर आए। कभी उसके बच्चे का कान उमेठ देते, तो कभी उसके गाल पर चुटकी काट लेते। परेशान होकर उस महिला ने अगला स्टेशन आने पर एक दूसरे कोच में बैठे पुलिस के भारतीय सिपाही से शिकायत की। शिकायत पर वह सिपाही उस कोच में आया भी लेकिन अंग्रेजों को देखकर वह बिना कुछ कहे ही वापस चला गया। रेल के फिर से चलने पर दोनों अंग्रेज अफसरों ने अपनी हरकतें फिर से शुरू कर दीं। विवेकानंद काफी देर से यह सब देख-सुन रहे थे। वह समझ गए थे कि ये अंग्रेज इस तरह नहीं मानेंगे। वह अपने स्थान से उठे और जाकर उन अंग्रेजों के सामने खड़े हो गए।

उनकी सुगठित काया देखकर अंग्रेज सहम गए। पहले तो विवेकानंद ने उन दोनों की आंखों में घूरकर देखा। फिर अपने दायें हाथ के कुरते की आस्तीन ऊपर चढ़ा ली और हाथ मोड़कर उन्हें अपने बाजुओं की सुडौल और कसी हुए मांसपेशियां दिखाईं। विवेकानंद के रवैये से दोनों अंग्रेज अफसर डर गए और अगले स्टेशन पर वह दूसरे कोच में जाकर बैठ गए।

Loading...

कर्तव्य की कहानी से सीख Moral Of Kartvya Ki Kahani : विवेकानंद ने अपने एक प्रवचन में यही घटना सुनाते हुए कहा कि जुल्म को जितना सहेंगे, वह उतना ही मजबूत होगा। अत्याचार के खिलाफ तुरंत आवाज उठानी चाहिए ।

*********************************************************************************************

 कहानी 5 – ‘पाप और पुण्य का हिसाब 

*********************************************************************************************

एक बार देवर्षि नारद अपने शिष्य तुम्बरू के साथ मृत्युलोक का भ्रमण कर रहे थे। गर्मियों के दिन थे। गर्मी की वजह से वह पीपल के पेड़ की छाया में जा बैठे। इतने में एक कसाई वहाँ से 25-30 बकरों को लेकर गुजरा। उसमें से एक बकरा एक दुकान पर चढ़कर मोठ खाने लपक पड़ा। उस दुकान पर नाम लिखा था – ‘शगालचंद सेठ।’ दुकानदार का बकरे पर ध्यान जाते ही उसने बकरे के कान पकड़कर दो-चार घूँसे मार दिये। बकरा ‘बैंऽऽऽ…. बैंऽऽऽ…’ करने लगा और उसके मुँह में से सारे मोठ गिर पड़े।

फिर कसाई को बकरा पकड़ाते हुए कहा, “जब इस बकरे को तू हलाल करेगा तो इसकी मुंडी मेरे को देना क्योंकि यह मेरे मोठ खा गया है।” देवर्षि नारद ने जरा-सा ध्यान लगाकर देखा और जोर-से हँस पड़े। तुम्बरू पूछने लगा, “गुरुजी ! आप क्यों हँसे? उस बकरे को जब घूँसे पड़ रहे थे तब तो आप दुःखी हो गये थे, किंतु ध्यान करने के बाद आप हँस पड़े। इसमें क्या रहस्य है?”

नारद जी ने कहा, “छोड़ो भी…. यह तो सब कर्मों का फल है, छोड़ो।”

“नहीं गुरुजी ! कृपा करके बताइये।”

“इस दुकान पर जो नाम लिखा है ‘शगालचंद सेठ’ – वह शगालचंद सेठ स्वयं यह बकरा होकर आया है। यह दुकानदार शगालचंद सेठ का ही पुत्र है। सेठ मरकर बकरा हुआ है और इस दुकान से अपना पुराना सम्बन्ध समझकर इस पर मोठ खाने गया। उसके बेटे ने ही उसको मारकर भगा दिया। मैंने देखा कि 30 बकरों में से कोई दुकान पर नहीं गया फिर यह क्यों गया कमबख्त ? इसलिए ध्यान करके देखा तो पता चला कि इसका पुराना सम्बंध था। जिस बेटे के लिए शगालचंद सेठ ने इतना कमाया था, वही बेटा मोठ के चार दाने भी नहीं खाने देता और गलती से खा लिये हैं तो मुंडी माँग रहा है बाप की।”

“इसलिए कर्म की गति और मनुष्य के मोह पर मुझे हँसी आ रही हैं कि अपने – अपने कर्मों का फल को प्रत्येक प्राणी को भोगना ही पड़ता है और इस जन्म के रिश्ते – नाते मृत्यु के साथ ही मिट जाते हैं, कोई काम नहीं आता।”

Moral of Kahani : अपने पाप ओर पुण्य का हिसाब इंसान को खुद ही भोगना है | इसलिए सैकड़ों हाथों से इकट्ठा करो और हज़ारों हाथों से बांटो। 

*********************************************************************************************

कहानी 6 – ‘सत्य का साथ कभी न छोड़े

*********************************************************************************************

स्वामी विवेकानंद जी प्रारंभ से ही मेधावी छात्र थे और सभी लोग उनके व्यक्तित्व और वाणी से प्रभावित रहते थे | जब वह अपने साथी छात्रों से कुछ बताते तो सब मंत्रमुग्ध हो कर उन्हें सुनते थे |

एक दिन कक्षा में वो कुछ मित्रों को कहानी सुना रहे थे, सभी उनकी बातें सुनने में इतने मग्न थे की उन्हें पता ही नहीं चला की कब मास्टर जी कक्षा में आये और पढ़ाना शुरू कर दिया | मास्टर जी ने अभी पढ़ाना शुरू ही किया था कि उन्हें कुछ फुसफुसाहट सुनाई दी | “कौन बात कर रहा है ?” मास्टर जी ने तेज आवाज़ में पूछा |

सभी छात्रों ने स्वामी जी और उनके साथ बैठे छात्रों की तरफ़ इशारा कर दिया | मास्टर जी क्रोधित हो गए | उन्होंने तुरंत उन छात्रों को बुलाया और पाठ से संबंधित प्रश्न पूछने लगे | जब कोई भी उत्तर नहीं दे पाया तब मास्टर जी ने स्वामी जी से वही प्रश्न किया, स्वामी जी तो मानो सब कुछ पहले से ही जानते हो |

उन्होनें आसानी से उस प्रश्न का उत्तर दे दिया | यह देख कर मास्टर जी को यकीन हो गया कि स्वामी जी पाठ पर ध्यान दे रहे थे और बाकी छात्र बात – चीत कर रहे थे |

फिर क्या था | उन्होंने स्वामी जी को छोड़ सभी को बेंच पर खड़े होने की सजा दे दी | सभी छात्र एक एक कर बेंच पर खड़े होने लगे | स्वामी जी ने भी यही किया | मास्टर जी बोले नरेन्द्र तुम बैठ जाओ ! नहीं सर, मुझे भी खड़ा होना होगा क्योंकि वो मैं ही था जो इन छात्रों से बात कर रहा था | स्वामी जी ने आग्रह किया | सभी उनकी सच बोलने की हिम्मत देख बहुत प्रभावित हुए |

कहानी से सीख Short Story With Moral in Hindi : इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि मार्ग कितना भी कठिन क्यों न हों | सदा सत्य का साथ देना चाहिए |

*********************************************************************************************

और जरुर पढ़े : समय के महत्व पर गांधी जी की 4 बेहतरीन कहानियां

और जरुर पढ़े : लघु नैतिक और प्रेरणादायक प्रेरक प्रसंग { भाग 3}

और जरुर पढ़े : नैतिक मूल्य व नैतिक शिक्षा पर आधारित एक शिक्षाप्रद कहानी

*********************************************************************************************

निवदेन – फ्रेंड्स अगर आपको उपर्युक्त ‘Short Stories With Moral in Hindi for Kids Student & all (नैतिक और प्रेरणादायक छोटी शिक्षाप्रद प्रेरक प्रसंग कहानियां) अच्छी  लगी  हो तो हमारे Facebook Page को जरुर like करे और  इस post को share करे | और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Loading...
Copy

CLICK HERE : Amazon Today's Deal of the Day - जल्दी करे मौका कहीं छूट न जाए

One thought on “6 अच्छी लघु प्रेरक प्रसंग कहानियों का संग्रह (भाग 2) : Collection of Most Inspirational With Moral Hindi Short Stories”

  1. संगत का महत्व क्या है ये अनेक संतो ने भी कहा है | इसलिये संत्संग का महत्व है | सबसे अच्छी संगत संतो की है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *