Beti Bachao Poem in Hindi
Hindi Post Kavita

बेटी बचाओं पर दो प्रेरक कविता – Short Poem on Save Daughter (Beti) in Hindi

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ मुहीम पर कविता – Emotional Poem on Beti Bachao Beti Padhao in Hindi

Poem on Save Daughter in Hindi
Poem on Save Daughter in Hindi

बेटी पर प्रेरक कविता “Beti Bachao” (Poem on daughter in Hindi)

मैं आज आप सबको स-नम्र करती हूँ आह्वान

अब तो जागो, अब तो जागो

बचाओ नन्हीं बेटियों की जान।

बेटी से ही रीत है,

बेटी ही है प्रीत।

बेटी से बनता समाज का मान,

अब तो हमको देना ही होगा

उन्हें यथायोग्य सम्मान |

उनकी शिक्षा और सुरक्षा के प्रति

निभाना होगा हमें नैतिक फर्ज,

तभी तो “भारत माँ” के लिए चुका पाएंगे,

हम अपना फर्ज |

– अंतरा अजय खेर

बेटी पर कविता “बेटी बचाओ” (Short Poem on “Save Daughter” in Hindi)

एक कली खिलने दो,

एक सदी महकने दो,

चीर धरती का सीना,

एक अंकुर बदलाव का,

रूढ़ियों के धरातल पर,

पनपने दो,

एक फलदार वृक्ष को

वंश की कटार से,

जड़ – विहीन न होने दो,

एक नव – जागृति की

किरन

कुरीतियों के पार,

बिखरने दो,

एक कायरता का कलुष,

अंतस की चट्टान से,

पिघलने दो,

ममता की कोख को,

Loading...

उत्सव के पंडाल तले,

ढोल – ताशे से सुरताल,

में

उन्मुक्त अवरण

करने दो,

मिटाकर लोलुपता का

अँधेरा,

ज्ञान के प्रकाश से

एक रावण दहेज का,

घर – घर में जलने दो,

एक तख्ती सम्मान की,

एक कोना अधिकार का,

एक फैसला समानता का,

एक चौखट अपनत्व की,

मन के द्वार रंगोली रंगने दो,

एक कली खिलने दो,

एक सदी महकने दो |

– अमिता सिंह

Also Read : बेटी पर तीन मर्मस्पर्शी हिंदी कविता

निवदेन – Friends अगर आपको Poem on ‘Save Daughter’ in Hindi बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर यह हिंदी कविता ‘ अच्छा लगे  तो हमारे Facebook Page को जरुर like करे और  इस post को share करे | और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Loading...
Copy

4 thoughts on “बेटी बचाओं पर दो प्रेरक कविता – Short Poem on Save Daughter (Beti) in Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *