पेट में कीड़े के लक्षण
Health Hindi Post

पेट में कीड़े होने के कारण लक्षण उपचार और घरेलू इलाज (Pet Me Kide in hindi)

पेट में कीड़े के कारण लक्षण इलाज और घरेलू उपचार Cause Symptoms Treatment And Home Remedies Stomach Worms In Hindi

Pet me kide : जब बच्चे कुछ खाते पीते नहीं है | उन्हें भूख भी नहीं लगती है | वो सुस्त रहने लगते है या फिर दूसरे बच्चों के मुकाबले अपने बच्चे का वजन कम बढ़ता है तो माता -पिता बहुत फिक्रमंद होने लगते है लेकिन यह लक्षण किसी गंभीर बीमारी के नहीं है बल्कि पेट में कीड़े होने के लक्षण है |

पेट में कीड़े के लक्षण
पेट में कीड़े के लक्षण

पेट और आंतों में पल रहे कीड़े शरीर के पोषक तत्वों को चूसकर उन्हें कमजोर बना देते है | ये कृमि एनीमिया, कुपोषण के अलावा पाचन तंत्र, हार्ट, लीवर, दिमाग को भी नुकसान पहुंचाते है | इतना ही नहीं यह कीड़े कई शारीरिक, मानसिक समस्याएं भी पैदा कर देती है | 

Also Read : निमोनिया के लक्षण घरेलू उपचार और इलाज

पेट में कीड़े के कारण (pet me kide ka karan)

-> प्रदूषित खाद्ध पदार्थो का सेवन

-> साफ – सफाई जैसे किचन साफ़ न रखना, सब्जी बनाने से पहले ठीक से न धोना, हाथ की सफाई, खाने के बर्तनों की सफाई आदि |

-> छोटे बच्चों द्वारा अपना अंगूठा चूसना, किसी भी बस्तु को उठाकर मुंह में डाल लेना |

Also Read : अच्छे स्पर्श और खराब स्पर्श के बारे बच्चो को कैसे बताए

उम्र जो भी हो साफ – सफाई का ध्यान न देने पर कृमि किसी भी व्यक्ति के आंतों में हो सकते है | आप को यह जानकर आश्चर्य होगा कि मनुष्य के शरीर के अन्दर करीब 17 तरह के परजीवी कीड़े होते है | इन कीड़ों का लाइफ स्पैन लगभग एक जैसा ही होता है | पर ये कीड़े शरीर के विभिन्न अंगों पर अपना विपरीत असर डालते है | इनमे से कुछ कीड़े बच्चों में ही ज्यादा मिलते है |

Also Read : अगर आपका बच्चा खाना नहीं खाता तो अपनाए यह 10 tips

पेट के कीड़े का उपचार या इलाज
पेट के कीड़े का उपचार

Also Read : कुत्ते के काटने पर प्राथमिक उपचार 

पेट में कीड़े के लक्षण (Pet me kide ke lakshan/symptoms)

पेट की आंत में वर्म होने पर विभिन्न लक्षण दिखते है | कुछ प्रमुख लक्षण निम्न है –

-> वजन न बढ़ना 

-> त्वचा की चमक कम होना

-> कमजोरी आ जाना, भूख न लगना या अधिक भूख लगना 

-> कुछ खाने के बाद उल्टी जैसा मन करना और मल मार्ग में खुजली होना 

-> शरीर में खून की कमी होना

-> चेहरे पर सफेद रंग के चकत्ते दिखाई देना

-> पेट बढ़ना और दर्द होना

-> सांस फूलना, मिट्टी खाना और सोते वक्त दांत रगड़ना 

-> बालों का रंग भूरा हो जाना  

Loading...

Also Read : डेंगू बुखार के लक्षण, कारण और उपचार

पेट के कीड़े का उपचार या इलाज  [Pet me kide ka ilaj (treatment)]

कृमियों के संक्रमण से बचने के लिए डिवर्मिंग कराना बहुत जरुरी होता है नहीं तो यह कीड़े जान के दुश्मन भी बन सकते है क्योंकि इन कीड़ों के अंडो की संख्या एक बार में लाखों की होती है | अगर समय पर इनका इलाज नहीं किया गया तो यह गुच्छों में पनपने लगते है जो कि और भी घातक हो जाते है |

पेट के worms का इलाज बेहद आसन है | यह इलाज कीड़े की कैटेगरी और मरीज के लक्षण को देखकर होता है | ज्यादातर worms की जांच स्टूल टेस्ट के जरिए ही की जाती है |

यह जरुरी नहीं कि कीड़े केवल पेट या आंत में ही हो | कई मामलों में यह आंख और दिमाग में पहुँच जाते है | जिसकी वजह से बच्चों में दौरे पड़ने लगते है | इन कीड़ों का पता ब्रेन का सीटी स्कैन, एमआरआई, ईआईटीपी, ब्लड टेस्ट आदि से लगाया जाता है|

Also Read : स्वाइन फ्लू के लक्षण कारण बचाव और इलाज

पेट के कीड़े की दवा (Pet ke kide (worms) ka daw  (Medicine)

शरीर में परजीवी की तरह रहने वाले ये कीड़े उनका अधिकांश पोषण खुद ही खाते है | इसलिए बच्चों को साल में दो बार कीड़े मारने की दवा जरुर देनी चाहिए | कीड़े मारने की दवाओं में  एल्बेंडाजोल, प्रेप्राजीन, पेयरैन्टल, प्राजिक्विंटल, निक्लोजामाइटेल आदि आते है जिन्हें डॉक्टर की सलाह के अनुसार देना चाहिए |

पेट के कीड़े का घरेलू उपचार (Pet me kide Ka gharelu ilaj)

Pet me kide होने पर आप कुछ घरेलू नुख्से को भी अपना सकते है | इन देशी / आयुर्वेदिक इलाज से भी कीड़े खत्म हो जाते है –

-> उबले पानी का सेवन करें |

-> दो पत्ती नीम दो पत्ती तुलसी अगर वयस्क व्यक्ति हो तो चार पत्ती नीम और चार पत्ती तुलसी को एक चम्मच शहद के साथ सुबह – शाम मरीज को दे |

-> एक गिलास सादे पानी में नीम या तुलसी के पत्तियों को डालकर पीने से भी worms की समस्या दूर होती है |

-> शरीर व हाथों की साफ – सफाई पर ध्यान देना चाहिए | खासतौर पर बच्चे खाने से पहले साबुन से हाथ जरुर धोएं |

-> बच्चा अगर छोटा है तो उसपर हमेशा नजर रखे कि कही बच्चा मुंह में उंगली तो नहीं डाल रहा |

-> गीली मिट्टी और कूड़े करकट से बच्चों को दूर रखें क्योंकि छोटे बच्चों की आदत होती है किसी भी सामान को उठाकर मुंह में डालने की |

-> मल – मूत्र का त्याग शौचालय में ही करें |

-> बच्चा जब बाहर से खेलकर आएं तो उसके हाथ – पैर जरुर धुलवाएँ |

जरुर पढ़े : इस साफ सफाई को कभी मत करिए नजरअंदाज

निवदेन – Friends अगर आपको  “पेट में कीड़े होने के कारण, लक्षण, दवा और घरेलू उपचार” पर यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरुर share कीजियेगा और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

31 thoughts on “पेट में कीड़े होने के कारण लक्षण उपचार और घरेलू इलाज (Pet Me Kide in hindi)

  1. उचित देखभाल और खाने पीने की चीजों का ध्यान नहीं रखने से पेट में कीड़े हो जाते हैं …बबीता जी इस पोस्ट के माध्यम से आपने आपने पेट में कीड़े होने से लेकर उनसे बचाव की पूरी जानकारी दी है….अच्छी पोस्ट…हर किसी के लाभदायक…..

  2. Nice article babita ji bachpan me ye problem pahle bhi thi or aj bhi par aj to iske liye government bhi achhe kam kar rhi h. Apke bataye desi upay vakai useful h or ajmaye hue bhi thanks for sharing such a nice post

  3. aap ka ye article Bahutu hi achha hai aur sabhi logo ke liye yah jruri hai very nice useful article hai thanks Babita ji

  4. बहुत ही बेहतरीन article बबिता जी | इस लेख की जरुरत थी क्योकि बच्चे आजकल बहुत उलटी-सीधी चीजे खाते रहते है जिसकी वजह से पेट में कीड़े की शिकायत आम हो गई है | धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *