सफलता के लिए
Hindi Post Nibandh Nibandh Aur Bhashan विविध

सफलता के 21 मूल मंत्र (Safalta ke mool mantra)

सफलता के 21 मूल मंत्र (Safalta ke 21 mool mantra)

Safalta ke mool mantra : आज के इस व्यस्त एवं प्रतियोगिता से पूर्ण जीवन में यह एक बहुत बड़ा सवाल है कि सफल कैसे बने या फिर लोगों के दिलों पर राज कैसे करें | बहुत से लोगों को तो यह सवाल घोर निराशा / हताशा एवं मानसिक तनाव में जीवन व्यतीत करने के लिए विवश कर देता है | लेकिन यह बात हम सब को समझने की जरुरत है कि किसी को भी सफलता अनायास ही नहीं मिलती बल्कि सफल व्यक्ति बनने के लिए योजनाबद्ध तरीके से विशेष प्रयत्न करने होते है | मान लीजिए यदि भाग्यवश सफलता आपके हाथ लग भी जाये तो भी उसे बनाये रखने के लिए आपको निरंतर प्रयास करना आवश्यक होता है |

दोस्तों सफलता असफलता बहुत हद तक सोच और आपके जीवन जीने के तरीको पर भी निर्भर करता है क्योंकि जिंदगी तो हर कोई जीता है। लेकिन जिंदगी जीने का सबका अलग – अलग तरीका होता है। कोई बंधना नहीं चाहता तो कोई दूसरों को बांधकर रखना चाहता है। कोई अपनी इच्छाओं का तो कोई दूसरों की चाहतों का अतिक्रमण करता है। कोई खुद को दोषी ठहराता है तो कोई  दूसरों को। नतीजा, लोग अपनी ही राहों के मकडजाल में फंसकर भीड़ में कही खो जाते है। ऐसे में मन मुताबिक सफलता हासिल करने के लिए जिस मूल मंत्र को जीवन में अपनाने की जरुरत होती है वह कही नजर नहीं आती और आप को अवसाद घेर लेती है।

सफलता के 21 सूत्र Safalta Ke 21 Mantra In Hindi Safalta ke 21 mool mantra
Safalta ke 21 mool mantra

सफलता के 21 मूल मंत्र (Safalta ke mool mantra in hindi)

कामयाब (successful) होना कोई असम्भव चीज नहीं है बस रूरत है तो सफलता के 21 मूल मंत्रों को अपने भीतर विकसित करने की ताकि आप भी कहे

दिल जीत ले वो नजर हम भी रखते है |   

भीड़ में नजर आये वो असर हम भी रखते है |

अगर आप सफलता के सूत्र का यह अद्भुत करंट अपने अंदर पैदा कर लें तो आप भी भीड़ में अपना असर छोड़ सकते है और सफल व्यक्ति बन सकते है | तो आईए कामयाब होने के लिए क्यों न एक कोशिश की जाए |

 दिल से करें तारीफ, चापलूसी नहीं

व्यक्तित्व का सफलता पाने में अहम भूमिका होती है और आपके व्यक्तित्व पर विचारों का प्रभाव रहता है | इसलिए दूसरों की तारीफ और प्यार करने में कंजूसी न करें | यह दोनों चीजें किसी को भी जितना मिले उतना कम ही होता है | आपके तारीफ करने की आदत शायद शुरू में आपके मित्रोँ को अटपटा लगे, लेकिन जब वह देख लेंगे कि आप निष्कपट है तो वे उदारतापूर्वक प्रशंसा करने के आपके इस गुण पर मोहित हो जाएंगे |

व्यवहारिकता तो यह कहती है कि यदि प्रशंसा एकदम झूठी नहीं है, चाहे वह दिल की गहराई से न भी की गई हो तो भी बड़ा अच्छा प्रभाव छोड़ती है | अच्छी नीयत से की गई प्रशंसा हमेशा सराहनीय होती है |

दूसरों की भी सुने

दूसरों की बात ध्यान से सुनना एक प्रकार की कला है | इसलिए जब भी आप किसी से बातें करे तो सिर्फ अपना ही पक्ष न रखें बल्कि दूसरों को भी बोलने का मौका दे | उसकी बाते धैर्य से सुनें | सामने वाला आप से जो बात कह रहा है, उससे जुड़े सवाल पूछकर आप उसकी बात में दिलचस्पी भी जाहिर कर सकते है | अच्छे हाव – भाव के साथ सकारात्मक प्रतिक्रिया भी दे सकते है | बीच में बात न काटें क्योंकि इससे व्यक्ति आपसे बात करने से कतराने लगेगा | एक बार आप अपने अन्दर इस सफलता के सूत्र का विकास करके देखिए, हर व्यक्ति आपसे दोस्ती के लिए हाथ बढ़ाता नजर आएगा |

दार्शनिक जिद्दू कृष्णमूर्ति कहते है ‘हम जितना सुनते है उतना सीखते हैं | दूसरों को ध्यान से सुनना केवल शब्दों को नहीं, उनके सभी एहसासों को भी सुनना है |’

सभी के लिए मददगार साबित हो

दूसरों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहिए | रूठों को मनाइये और ढेरों ऐसे ही काम कीजिए | सच्ची मदद पाने वाला आपके गुण गाएगा और कभी न कभी आपके काम भी आएगा | जो दूसरो की मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहता है उस इंसान को सभी पसंद करते है |

ए. पी जे. अब्दुल कलाम कहते हैं, ‘मैं एक हैंडसम इंसान नहीं हूं, लेकिन मैं अपना हैंड उस किसी भी व्यक्ति को दे सकता हूं, जिसको मदद की जरुरत है | सुंदरता ह्रदय में होती है चेहरे में नहीं |’

चीखना – चिल्लाना उचित नहीं

बेहतर काम के साथ अच्छे सम्बंधों का होना आपकी सफलता के लिए सोने पर सुहागा सरीखा काम करता है | शांत रहकर पूरी मेहनत और ईमानदारी से अपना काम करते रहे | सहयोगियों पर चीखने – चिल्लाने से कोई फायदा नहीं होगा | चाहे आप student हो या office में काम करते हो चीखने – चलाने से हमेशा आपके व्यक्तित्व पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है |

Also Read : काहे का झगड़ा बालम

शालीनता का रखे ख्याल

‘हमेशा अपनी बात कहने का अंदाज खूबसूरत रखों ताकि जबाब भी खूबसूरत सुन सको |’

जितना जरुरी सही समय पर सही बात बोलना होता है, उतना ही ग़लत मौको पर खुद को रोकना भी होता है | अगर आप की इमेज एक गुस्सैल प्रवृति के रूप में है तो इसे बदल लीजिए क्योंकि क्रोध करने की आदत केवल दूसरों को नहीं आपको भी दुखी करती है | सफलता का नियम  तो यही कहता है कि जब भी आप किसी से मिले हाथ मिलाएँ, मुस्कुराएँ, और उनके साथ अपनी खुशियाँ शेयर करें | गर्मजोशी से हाथ मिलाने और मुस्कुरा कर मिलना शालीनता की पहचान होती है | यह बात काफी घिसी – पिटी है पर यह पूरी तरह सच है | शालीनता पूर्वक व्यवहार संक्रामक होती है | अगर विश्वास न हो तो आप एक बार आजमा कर देखिए |

मतभेद न पनपने दें

किसी से मतभेद होना आम बात है लेकिन आप उस मतभेद को मन का भेद न बनने दें | शत्रुता, मनमुटाव या बदले की भावना पर सर खपाना उर्जा की बर्बादी है | जिस प्रकार गन्ने में जहाँ गाँठ होती है वहां रस नहीं होता और जहाँ रस होता है वहां गाँठ नहीं होती | बस जीवन भी ऐसा ही है | यदि मन में किसी के लिए नफरत की गाँठ होगी तो हमारा जीवन भी बिना रस के बन जाएगा और जीवन का रस बनाए रखना है तो नफरत की गाँठ को निकालना ही होगा | मन में बैरभाव रखकर कोई व्यक्ति कभी भी सफलता नहीं हासिल कर सकता |

Safalta ke 21 mool mantra
Safalta ke 21 mool mantra

झूठ बोलना या नाटक करना ठीक नहीं

दूसरों के सहारे अपना काम निकलवाना, झूठ बोलना, दूसरों को धोखा देना, केवल अपना ही फायदा सोचना, डिंगे हाकना और इस बात का इंतजार करना कि कोई आप को सफल बना देगा या आप की लोगों में अच्छी पहचान बनेगी तो यह व्यर्थ की कल्पना है | सच मानिए ऐसे व्यवहार से लोग प्रभावित नहीं होते बल्कि वह समझ जाते है कि आप भीतर से कितने कमजोर और असुरक्षित है | बेहतर यही होगा कि जब भी आप अपने आप को दूर की हांकते पकड़ लें तो वही रुक जायें |

सामने वाले का हौसला बढायें

दूसरो पर व्यंग करने के वजाय ऐसे शब्दों का प्रयोग करे जिससे सामने वाले का हौसला बढे | हौसला बढ़ाने के कुछ वाक्य पेश है –

‘मुझे बहुत ख़ुशी है कि आपने योग से अपने आप को fit बना लिया है |’

Loading...

‘क्या बात है ! कमाल कर दिया आपने | तम्बाकू छोड़ दी | बहुत बढियां काम किया |’

‘अरे आज तो आपने कमाल कर दिया | Office time से पहुँच गए !’

दूसरों की प्रशंसा करने में कंजूसी न करें

प्रशंसा करने में कंजूसी न करें | जब भी किसी में कोई अच्छी बात देखें तो उसकी तारीफ जरुर करें | हो सके तो उस इंसान की मौजूदगी में प्रशंसा करें | आपकी सच्ची प्रशंसा से किसी मुरझाएं का दिल खिल सकता है | सच मानिए कोई – कोई प्रशंसा तो वर्षों याद रखे जाते है |

Also Read : चुरा लें कुछ पल हमसफर के लिए

सभी के सामने दुखड़ा न रोयें

हर वक्त हर किसी के सामने अपना दुखड़ा रोना अच्छी बात नहीं होती है | आप की समस्या बड़ी हो या छोटी यह कोई नहीं समझता | वह कहावत तो आपने सुनी होगी ! हंसने वाले का सब साथ देते है लेकिन रोने वाला अकेले ही रोता है | सहज और सुखद बातचीत हमेशा लोगो को बड़ी अच्छी लगती है |

हमेशा खुद को सही साबित करने की कोशिश न करें

आप इस मुगालते में न रहे कि आप सब जानते है और आप के पास जो जानकारी है वही सच है | अपने सहकर्मियों की भी बाते सुने | इससे आपका ज्ञान ही बढेगा |यदि आपका ज्ञान बढेगा तो सफलता के नए – नए रास्ते भी खुलेंगे |

Also Read : Health Insurance जो बचाए इलाज का खर्चा

समस्या है तो समाधान भी है

समस्या का मातम न मनाए बल्कि उन्हें दूर करने की कोशिश करे | दुख केवल आपको दर्द देगा खुशी नहीं | एक बात यह भी सच है कि दुःख के समय भी हल्के मन से बातचीत करने वाले की लोग बहुत इज्जत करते है | लोग उसकी प्रशंसा करते है कि फला  व्यक्ति बड़ा ‘खुशदिल’ या जिंदादिल है |

Always look at the solution. Not the problem. Learn to focus on what will give results.

जिए और जीने दें

दूसरों के विचारों का तिरस्कार न करें | Simple सी बात है कि यदि आप सलमान खान को पसंद करते है तो आपको कोई हक़ नहीं कि आप दूसरे हीरो के fan के सामने उसके favourite hero का मजाक बनाए | इसलिए हमेशा दूसरो के विचारो का भी सम्मान करे |

सभी से खुले मन से मिलिए

सफलता पाने के लिए या लोकप्रिय बनने के लिए थोडा खुलना तो पड़ेगा ही | चुप्पी साधे रखने वाले व्यक्ति से कौन अपने दिल का हाल कहेगा और कौन उससे घुलेगा – मिलेगा |

सफलता का सबसे कारगर सूत्र अपनी गलती को स्वीकार करें

गलती करने पर ‘sorry’ कहने में न हिचकिचाए | क्षमा याचना दिल को जीतने वाला एक बेहद असरदार गुण है | किसी का दिल जीतने वाला ही सफलता (success) की सीढ़ी भी जल्दी चढ़ता है |

दूसरो के प्रति ईमानदार बनिए

आप ने अक्सर देखा होगा कि कोई व्यक्ति किसी समूह में अजीबों – गरीब सवाल करके अपने talent की धाक तो बैठा लेता हैं लेकिन जब कोई व्यक्ति उसका उत्तर देने का प्रयत्न करता है तो उसे boring समझकर वहां से रफूचक्कर हो लेते हैं | ऐसा कभी न करें क्योकि इससे लोग आपको हलके में लेने लगते है |

21 सफलता के सूत्र and 21 tips to get success in hindi
सफलता के 21 मूल मंत्र

सफलता पाने के लिए स्पष्टवादी बनिए

कोई मनमुटाव होने पर आमतौर पर लोग उसके गुबार या जहर को मन में पाले वर्षों बैठे रहते हैं | पीठ पीछे ऐसे लोगों का ‘घुन्ना’ कहा जाता है | आप यह न करें विवाद या झगड़ा होने पर साफ़ – साफ़ उस पर बातचीत करें और हल खोजें | आपकी यह स्पष्टवादिता लोगों को बड़ी पसंद आयेगी |

समझदार बनिए

अगर कोई व्यक्ति आपके सामने अपनी गलती मान ले तो आप उसकी गलतियों के लिए उसे नीचा न दिखाए | इसी प्रकार यदि कोई अपनी किसी गलती के लिए अपने आप को दोष दे रहा हो तो आप भी उसको सुनाने न लग जाए | खुद की गलती के लिए खुद को दोष देना अलग बात है लेकिन किसी दूसरे के द्वारा इस तरह की बात सुनना बहुत अपमानजनक लगता है | इस कठिन समय उसे आपकी हमदर्दी की आवश्यकता होती है न कि गलतियों को highlight करने वाले की | याद रखिए कोई अपने आपको चाहे जो कहे लेकिन आपको उसे नहीं दोहराना है |

Also Read : पेट में कीड़े होने का कारण, लक्षण और क्या है इनका इलाज

दिल से दें उधार

दोस्ती में उधार भी चलता है, चाहे वह एक कटोरी शक्कर हो या कुछ रुपए उधार देने का | ऐसा न हो कि आप दावा तो करते है दोस्ती में जान छिड़कने की और जहाँ दोस्त ने सौ रुपए मांगे कि भौ पर बल डाल लिए |

गलतियों को माफ करना सीखे

दूसरों को माफ करना बडप्पन की निशानी होती है | जब तक आप यह सोचते रहेंगे कि कोई चीज आप के हिसाब से नहीं है तब तक आप का दुसरे व्यक्तियों से गिले – शिकवे जस के तस बने रहेंगे | इसलिए इस दुष्चक्र से बाहर निकले और क्षमाशील बने |

The weak can never forgive. Forgiveness is the attribute of the strong.  

–   Mahatma Gandhi

इस पूरी बातचीत का अंतिम बिंदु यही है कि आप सफलता पाने के लिए लोगों के साथ वैसा ही व्यहार करें जैसा कि आप अपने लिए दूसरों से अपेक्षा करते है | लोग क्या चाहते है ? प्यार, सहानभूति और संवेदना और यही उन्हें दें | उनकी जगह अपने को रखकर देखने की आदत डालें, उनके सुख – दुःख को शेयर करें और आप स्वयं पाएंगे कि आपके चाहने वालों का एक हुजूम हमेशा आप के साथ है |

दोस्तों जीवन में सफल कैसे बने” यह एक महत्वपूर्ण सवाल जरुर है लेकिन यह भी सच है कि हर कोई जन्म से सफल नहीं होता है | निरंतर अभ्यास से आप न सिर्फ बेहतर तरीके से लोगों से जुड़ सकते है बल्कि लोगों के दिलो पर कभी न मिटने वाली अमिट छाप भी छोड़ सकते है लेकिन इसके लिए आपको सफलता का यह सूत्र अपने मूल में बीज के समान बोना होगा | इस मूल मंत्र की दिव्य शक्ति और सामर्थ्य से सफलता के शिखर पर पहुँच सकते है और कामयाबी की बुलंदियों को छू सकते है |

निवदेन – Friends अगर आपको “Safalta ke 21 mool mantra” पर यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरुर share कीजियेगा और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Babita Singh
Hello everyone! Welcome to Khayalrakhe.com. हमारे Blog पर हमेशा उच्च गुणवत्ता वाला पोस्ट लिखा जाता है जो मेरी और मेरी टीम के गहन अध्ययन और विचार के बाद हमारे पाठकों तक पहुँचाता है, जिससे यह Blog कई वर्षों से सभी वर्ग के पाठकों को प्रेरणा दे रहा है लेकिन हमारे लिए इस मुकाम तक पहुँचना कभी आसान नहीं था. इसके पीछे...Read more.

62 thoughts on “सफलता के 21 मूल मंत्र (Safalta ke mool mantra)

  1. Me bohat bechain tha..succses hone ka bt le ke.par ise padh k mjhe bohat acha laga thank u ..me in bt ko jarur follow karunga

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *