Hindi Post Hindi Stories

Inspirational Hindi Story : बुरे व्यवहार का बुरा नतीजा

Web Hosting
Inspirational Hindi Story for Kids
short_hindi_story
एक दुकानदार को नौकर की सख्त जरुरत थी | उसने अपने मिलने – जुलने वालों से कह भी रखा था कि कोई पढ़ा – लिखा , ईमानदार आदमी मिल जाए तो मेरी दूकान के लिए बताना, क्योंकि अकेला हूँ | जब कभी बाहर सामान लेने जाता हूँ या अन्य किसी काम से इधर – उधर जाता हूँ तो दूकान बंद करनी पड़ती है | ग्राहक और मौत का क्या ठिकाना कब आए और लौट जाए ?
कुछ दिन बाद ही एक मित्र एक युवक को साथ लेकर दुकान पर पहुँचा | वह युवक परेशानियों का मारा हुआ था | डिग्री होने के बावजूद भी उसे कोई नौकरी नहीं मिल पा रही थी | दुकान के मालिक ने उसकी योग्यता के संबंध में पूछा तो उसने पूरा विवरण बता दिया |
मालिक ने उस लड़के से कहा “ ठीक है | अभी आप अपने घर जाइये | मैं सोचकर उत्तर दूँगा और आप के घर सूचना भिजवा दूँगा |” युवक निराश होकर अपने घर की तरफ चलता बना |
युवक के जाने के बाद मित्र ने दुकानदार से पूछा – “ भैया , आपको व्यापार के लिए एक व्यक्ति की सख्त जरुरत थी , इसलिए मैं उस युवक को आप के पास लाया था | मेरी दृष्टि में वह युवक परिश्रमी , ईमानदार और पढ़ा – लिखा है , पर आप ने उसे टाल दिया |
दुकानदार ने कहाँ “ भाईसाहब , मैं आप से क्या कहूँ ? उसमें एक कमी थी | मेरे प्रश्नों का उत्तर उसने दिया तो , पर श्रीमान् , महोदय जी और साहब जैसे शिष्टतासूचक शब्दों का कही प्रयोग नहीं किया | व्यापार की सारी सफलताएँ शिष्ट व्यवहार पर ही आधारित है | शिष्टता के अभाव में तो मेरा सारा व्यापार ही चौपट हो जायेगा |”
Moral of Inspirational Hindi Story :  A man’s manners are a mirror in which he shows his portrait.  यानि शिष्टताचार ही मनुष्य के व्यक्तित्व का आईना होते है |
 
निवदेन – Friends अगर आपको यह Inspirational Hindi Story अच्छी लगा हो तो इसे जरुर share कीजियेगा और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Loading...
Copy

11 thoughts on “Inspirational Hindi Story : बुरे व्यवहार का बुरा नतीजा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *