Health Hindi Post

गर्भावस्था में वजन कितना होना चाहिए (Pregnancy me weight kitna hona chahiye)

Pregnancy me weight kitna hona chahiye : बढ़ता weight किसे नहीं डराता ? बदलती lifestyle के कारण वजन की समस्या खासतौर पर महिलाओं को बड़ी तेजी से अपना शिकार बना रही है |

अधिकांश लोग इस तथ्य से अनजान होते हैं कि weight का pregnancy पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है |

जरुर पढ़े : गर्भधारण के समय कैसे खानपान से बचे कि स्वस्थ रहे जच्चा बच्चा

Pregnancy को प्रभावित करने वाले कई कारणों में बढ़ता weight भी एक महत्वपूर्ण कारक है. आज मै आपसे ‘प्रेगनेंसी के लिए आदर्श वेट’ के बारे में वजनदार तथ्यों की चर्चा करूगीं.

गर्भधारण के समय आदर्श वजन कितना होना चाहिए (Pregnancy me weight kitna hona chahiye)

 

गर्भावस्था में वजन
गर्भावस्था में वजन

प्रेगनेंसी के दौरान वजन की समस्या 

गर्भधारणके समयवजन का काफी महत्व होता है. विवाहित महिला के लिए अधिक वजन की समस्या के अलावा कम वजन की समस्या भी गर्भधारण में दिक्कत पैदा कर सकती है. जैसे कि

Pregnancy me weight kitna hona chahiye
Pregnancy me weight kitna hona chahiye

Point 1  – > प्रीटर्म बर्थ ( निर्धारित समय से पहले बर्थ हो जाने का खतरा )

Point 2  – > बच्चे का वजन सामान्य से कम होना.

Point 3  – > एनीमिया जैसी बीमारियों का हो जाना.

गर्भधारण के सन्दर्भ में उम्र के अनुसार Ideal weight

मोटापा कई प्रकार से प्रेगनेंसी को प्रभावित करता है. वजन को संतुलित रखकर इस समस्या से बचा जा सकता है. वैसे सभी महिलाओं की लम्बाई एक समान नहीं होती है फिर भी यदि आप की लम्बाई 155 सेमी है तो आपका वजन 55 किलो होना चाहिए.
हम आपको बता दे कि गर्भावस्था के आखिरी दिनों में वजन 8 – 10 किलोग्राम तक बढ़ जाता है जो कि नार्मल हैं.

वजन का हार्मोन पर प्रभाव

गर्भावस्था में वजन कितना होना चाहिए
गर्भावस्था में वजन

Point 1  – >  वजनबढ़ने से अंडाणु बनने की प्रक्रिया (ओव्यूलेशन) प्रभावित होती है. इस कारण गर्भधारण की सम्भावना कम हो जाती है.

Point 2  – >  पॉलीसिस्टीक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) नामक समस्या पैदा होती है. इस समस्या में महिलाओं में इंसुलिन का स्तर बढता है. इसके कारण ओव्यूलेशन का घटना, अनियमित माहवारी होना और टेस्टोस्टेंरॉन नामक हार्मोन में वृधि होती है.

Point 3  – >  कम वजन का अर्थ है शरीर में फैट का प्रतिशत कम होना. ओव्यूलेशन और माहवारी के समय पर होने के लिए बांड़ी फैट 22 प्रतिशत अवश्य होना चाहिए.

Point 4  – >  गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है.

Point 5  – >  अत्यधिक वजन के कारण कई बार आईवीएफ ट्रीटमेंट में भी परेशानी होती है.

इस प्रकार वजन को संतुलित रखकर उपर्युक्त समस्याओ से बचा जा सकता है. 22 से 34 वर्ष की उम्र में गर्भधारण की क्षमता बेहतर मानी जाती है |
*********************************************************************************************

जरुर पढ़े : गर्भावस्था में क्या सावधानियां जरूरी है

*********************************************************************************************

निवदेन – 

Friends अगर आपको Pregnancy me weight kitna hona chahiye पर यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरुर share कीजियेगा और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Loading...
Copy

89 thoughts on “गर्भावस्था में वजन कितना होना चाहिए (Pregnancy me weight kitna hona chahiye)”

  1. Mem me 25 yr ki hun,hight 5.3 or me 10 wk pregnent hun,mera bajan 83 he,every wk mera bajan badh raha he to eskeliye me kya karu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *