Health Hindi Post

गर्भावस्था में वजन कितना होना चाहिए (Pregnancy me weight kitna hona chahiye)

Web Hosting

Pregnancy me weight kitna hona chahiye : बढ़ता weight किसे नहीं डराता ? बदलती lifestyle के कारण वजन की समस्या खासतौर पर महिलाओं को बड़ी तेजी से अपना शिकार बना रही है |

अधिकांश लोग इस तथ्य से अनजान होते हैं कि weight का pregnancy पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है |

जरुर पढ़े : गर्भधारण के समय कैसे खानपान से बचे कि स्वस्थ रहे जच्चा बच्चा

Pregnancy को प्रभावित करने वाले कई कारणों में बढ़ता weight भी एक महत्वपूर्ण कारक है. आज मै आपसे ‘प्रेगनेंसी के लिए आदर्श वेट’ के बारे में वजनदार तथ्यों की चर्चा करूगीं.

गर्भधारण के समय आदर्श वजन कितना होना चाहिए (Pregnancy me weight kitna hona chahiye)

 

गर्भावस्था में वजन
गर्भावस्था में वजन

प्रेगनेंसी के दौरान वजन की समस्या 

गर्भधारणके समयवजन का काफी महत्व होता है. विवाहित महिला के लिए अधिक वजन की समस्या के अलावा कम वजन की समस्या भी गर्भधारण में दिक्कत पैदा कर सकती है. जैसे कि

Pregnancy me weight kitna hona chahiye
Pregnancy me weight kitna hona chahiye

Point 1  – > प्रीटर्म बर्थ ( निर्धारित समय से पहले बर्थ हो जाने का खतरा )

Point 2  – > बच्चे का वजन सामान्य से कम होना.

Point 3  – > एनीमिया जैसी बीमारियों का हो जाना.

गर्भधारण के सन्दर्भ में उम्र के अनुसार Ideal weight

मोटापा कई प्रकार से प्रेगनेंसी को प्रभावित करता है. वजन को संतुलित रखकर इस समस्या से बचा जा सकता है. वैसे सभी महिलाओं की लम्बाई एक समान नहीं होती है फिर भी यदि आप की लम्बाई 155 सेमी है तो आपका वजन 55 किलो होना चाहिए.
हम आपको बता दे कि गर्भावस्था के आखिरी दिनों में वजन 8 – 10 किलोग्राम तक बढ़ जाता है जो कि नार्मल हैं.

वजन का हार्मोन पर प्रभाव

गर्भावस्था में वजन कितना होना चाहिए
गर्भावस्था में वजन

Point 1  – >  वजनबढ़ने से अंडाणु बनने की प्रक्रिया (ओव्यूलेशन) प्रभावित होती है. इस कारण गर्भधारण की सम्भावना कम हो जाती है.

Point 2  – >  पॉलीसिस्टीक ओवेरियन सिंड्रोम (पीसीओएस) नामक समस्या पैदा होती है. इस समस्या में महिलाओं में इंसुलिन का स्तर बढता है. इसके कारण ओव्यूलेशन का घटना, अनियमित माहवारी होना और टेस्टोस्टेंरॉन नामक हार्मोन में वृधि होती है.

Point 3  – >  कम वजन का अर्थ है शरीर में फैट का प्रतिशत कम होना. ओव्यूलेशन और माहवारी के समय पर होने के लिए बांड़ी फैट 22 प्रतिशत अवश्य होना चाहिए.

Point 4  – >  गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है.

Point 5  – >  अत्यधिक वजन के कारण कई बार आईवीएफ ट्रीटमेंट में भी परेशानी होती है.

इस प्रकार वजन को संतुलित रखकर उपर्युक्त समस्याओ से बचा जा सकता है. 22 से 34 वर्ष की उम्र में गर्भधारण की क्षमता बेहतर मानी जाती है |
*********************************************************************************************

जरुर पढ़े : गर्भावस्था में क्या सावधानियां जरूरी है

*********************************************************************************************

Loading...

निवदेन – 

Friends अगर आपको Pregnancy me weight kitna hona chahiye पर यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे जरुर share कीजियेगा और हाँ हमारा free email subscription जरुर ले ताकि मैं अपने future posts सीधे आपके inbox में भेज सकूं |

Loading...
Copy

81 thoughts on “गर्भावस्था में वजन कितना होना चाहिए (Pregnancy me weight kitna hona chahiye)”

  1. Main five month pregnant hun or Mera weight 58 kg hai or pet jayda sa nikla hua lgta hai to Kya karun pet Kan Karne wali exercise Karne chahiye Kya

    1. Akansha ji आप व्यायाम कर सकती है लेकिन आगे लिखी बातो का ध्यान रखे । व्यायाम का असली उद्देश्य शरीर के पेशियों और स्नायुओं को क्रियाशील और लचीला बनाना होता है। वास्तव में व्यायाम से गर्भवती की पेशियां अपेक्षाकृत अधिक लचीली हो जाती है। इससे प्रसव बड़ी आसानी से और कष्ट रहित होता है। गर्भावस्था में कष्ट रहित प्रसव के लिए नियमित रूप से एक्सरसाइज करना बहुत जरुरी है।

      गर्भावस्था में व्यायाम के सम्बन्ध में निम्नलिखित बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए –

      –> व्यायाम इतना ही करे, जिससे ज्यादा थकावट न महसूस हो।

      –> इस अवस्था में wolking, swiming, सायकलिंग और प्रीनेटल एक्सरसाइज करनी चाहिए और आपकी हार्ट रेट 140 के अंदर होनी चाहिए। 16 सप्ताह की प्रेगनेंसी के बाद पीठ के बल लेटने वाला एक्सरसाइज न करें। इस बात का विशेष ध्यान रखे कि गर्भावस्था में कोई खतरनाक व्यायाम या कार्य नहीं करना चाहिए जिसमें शक्ति से अधिक जोर लगाना पड़े। इस अवस्था में बहुत ज्यादा वजन न उठाने का रहस्य यही है कि, इतना भारी बोझ नहीं उठाना चाहिए जिसमें अतिरिक्त जोर लगाना पड़े।

      –> कूदने वाले व्यायाम गर्भावस्था के दौरान बिल्कुल नहीं करना चाहिए। इससे गर्भाशय पर झटका पहुंचता है।

      –> इस अवस्था में कोई भी एक्सरसाइज शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरुर ले।
      Also read this post Precautions during pregnancy in Hindi

  2. meri hight 5′ hai or mera weight 70 kg h, or meri age 29 hai, or main 1.5 se pregnant hu, main apna weight kaishe kam kru,

    1. Salini आप जितना हो सके चलने का प्रयास करें और ऐसी गतिविधियों में शामिल हों जो अधिक से अधिक समय आपको अपने पैरों पर रखे। साथ ही फलों और सब्जियों का सेवन अधिक करें क्योंकि ताज़े फल और सब्जियां न सिर्फ पूर्ण आहार माने जाते हैं बल्कि वे पोषक भी होते हैं। इन्हें आप कच्चा या पकाकर सेवन कर सकती हैं। होल ग्रेन का सेवन करें: ब्राउन और बासमती चावल, जाई, फाफरा, जौ होल ग्रेन के कुछ उदहारण हैं। चाय और कॉफ़ी कम पिए क्योंकि इनमे कैफीन का समावेश होता है जो आपके सेहत पर प्रतिकूल असर कर सकता है। ये वजन भी बढ़ाते हैं साथ हीं साथ ये आपके बच्चे को भी नुकसान पहुंचाते हैं। अधिक से अधिक पानी पीने का प्रयास करें। खाने की इच्छा को नियंत्रण में रखें। गर्भवती महिलाओं में यह एक सामान्य बात होती है कि बीच रात में उन्हें आइस-क्रीम, चॉकलेट वगैरह खाने की लालसा होती है। लेकिन आपको इन लालसाओं को नियंत्रण में रखना आवश्यक होता है। चिकित्सक की सलाह से कम से कम 15-20 मिनट तक व्यायाम करना आवश्यक होता है।

    1. Lakshmi जी आपका वजन आपकी height के हिसाब से थोड़ा सा कम है | प्रेगनेंसी में वजन बढ़ाने की जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए links पर क्लिक करके पोस्ट जरुर पढ़े :

      1. गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को क्या खाना चाहिए

      2. गर्भावस्था में क्या नहीं खाना चाहिए

      3. गर्भावस्था में सावधानियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *